ही में एक शोध में दावा किया गया है कि कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित हो चुके 76% से अधिक लोगों में ठीक होने के 6 महीने बाद  दुनियाभर में काफी तेजीभी लक्षण (Symptom) देखने को मिलते हैं।
से फैले कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर हर दिन कुछ नया देखने-सुनने को मिलता रहता है. माना जा रहा है कि हर दूसरा व्यक्ति कोरोना से संक्रमित है. कोरोना पर रिसर्च अभी भी जारी है. हाल ही में हुई एक रिसर्च में कोरोना को लेकर नई जानकारी सामने आई है. कोरोना से ठीक होने के 6 महीने बाद भी कुछ मरीजों में कोरोना के लक्षण (Coronavirus Symptoms) देखने को मिल रहे हैं।

COVID-19 के कुछ सबसे सामान्य लक्षणों (Symptoms) में बुखार, सूखी खांसी और गंध व स्वाद का न आना शामिल है. इस बीमारी से ठीक होने के बाद भी पीड़ित लोगों ने थकान, सुस्ती और मांसपेशियों की कमजोरी (Weakness) की शिकायत की है. लैंसेट की रिपोर्ट के अनुसार, जिन व्यक्तियों ने रिसर्च में हिस्सा लिया था, उनमें से 63% ने थकान और मांसपेशियों में दर्द के लक्षणों को बताया. इसके साथ ही चिंता, अवसाद, दर्द और नींद की समस्याएं भी देखने को मिल रही हैं।

ऐसे लक्षण (Symptom) सभी आयु वर्ग के लोगों पर भारी पड़ सकते हैं. हालांकि अधिक उम्र के लोगों के लिए ज्यादा खतरा बताया जा रहा है. इसलिए अधिक उम्र के लोगों को सावधानी भी ज्यादा बरतने की जरूरत है. सिर्फ यही नहीं, कोरोना संक्रमण के दौरान तनाव लेने या आराम न करने वाले मरीजों में भी लंबे समय तक इसका असर रह सकता है।

वैज्ञानिक और चिकित्सा पेशेवर लगातार इस कारण को खोजने के लिए प्रयास कर रहे हैं कि ठीक होने के बाद भी लोग महीनों तक COVID-19 के लक्षण और प्रभावों का अनुभव क्यों कर रहे हैं. कई विशेषज्ञों के अनुसार, ऐसी स्वास्थ्य समस्याओं के लिए कई कारक जिम्मेदार हो सकते हैं।

द लैंसेट (The Lancet) में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, COVID-19 से संक्रमित हो चुके 76 प्रतिशत लोगों में ठीक होने के 6 महीने बाद भी कम से कम एक लक्षण रह गया था. शोध (Research) में 1,733 लोगों को देखा गया था. अध्ययन में दावा किया गया कि लगभग 76% लोग बीमारी से ठीक होने के 6 महीने बाद भी COVID-19 के लक्षणों (Coronavirus Symptoms) का सामना कर रहे थे. खास बात थी कि सभी की रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी थी।