• ‘दादरा-नगर हवेली और दमन-दीव मर्जर ऑफ यूनियन टेरीटरीज बिल 2019’ अगले सप्ताह लोकसभा में पेश होगा
  • दादरा-नगर हवेली केवल एक जिला है और दमन-दीव में केवल दो जिले
  • नए केंद्र शासित प्रदेश का नाम ‘दादरा, नगर हवेली, दमन और दीव’ होगा
  • नई दिल्ली. केंद्र सरकार दो केंद्र शासित प्रदेशों (यूटी) ‘दमन-दीव’ और ‘दादरा-नगर हवेली’ को मिलाकर एक करने की योजना बना रही है। दोनों प्रदेशों के विलय का प्रस्ताव सरकार अगले सप्ताह लोकसभा में पेश करेगी। केंद्रीय मंत्री अर्जुन मेघवाल ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। जम्मू-कश्मीर को दो भागों में विभाजित करके दो केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर और लद्दाख बनाने के बाद सरकार ने यह फैसला किया है।मेघवाल ने कहा- ‘दादरा-नगर हवेली और दमन-दीव मर्जर ऑफ यूनियन टेरीटरीज बिल 2019’ अगले सप्ताह लोकसभा में पेश किए जाने वाले विधेयकों की सूची में शामिल है। अधिकारियों के मुताबिक, गुजरात के पास देश के पश्चिमी तट पर स्थित दोनों ही केंद्र शासित प्रदेशों का विलय बेहतर प्रशासन और कई चीजों के दोहराव पर रोक लगाने में सहायक होगा।

    35 किमी के फासले पर दो सचिवालय, बजट भी अलग
    अभी दोनों ही केंद्र शासित प्रदेशों के लिए अलग बजट और सचिवालय है, जबकि दोनों के बीच महज 35 किमी का फासला है। दादरा-नगर हवेली केवल एक जिला है और दमन-दीव में केवल दो जिले हैं। नए केंद्र शासित प्रदेश का नाम ‘दादरा, नगर हवेली, दमन और दीव’ होगा। इसका मुख्यालय दमन-दीव हो सकता है।

    5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर को दो यूटी में विभाजित किया गया
    इससे पहले 5 अगस्त को केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाकर उसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांट दिया था। इसके बाद देश में इस समय 9 केंद्र शासित प्रदेश हो गए हैं। हालांकि दमन-दीव और दादरा-नगर हवेली के विलय के बाद यह संख्या घटकर 8 हो जाएगी।