इस फ्रेंडशिप डे (Friendship Day) हम इस मुद्दे पर बात करेंगे कि आखिर सारी मौज-मस्ती और आवारगी करने के बाद भी दोस्ती (Friendship) हमें अप्रत्यक्ष (Indirect) रूप से कितनी बीमारियों से बचाती है और कैसे बचाती है। यकीन मानिए ये पक्ष जानकर हैरान रह जाएंगे आप…

पैदा होने के साथ ही हमें सारे रिश्ते मिल जाते हैं। अगर कोई रिश्ता नहीं मिलता है तो वह है दोस्ती का… क्योंकि दोस्त हम अपनी समझ, समय और भावनाओं के आधार पर बनाते हैं। यहां आज हम उन दोस्तों के बारे में बात करेंगे जिनसे हमारा दिल का रिश्ता होता है। क्योंकि यह रिश्ता हमें कई सेहत संबंधी समस्याओं से बचाता है लेकिन इस बात पर हम कभी गौर ही नहीं करते हैं…

-दोस्ती का अर्थ एक-दूसरे के माइंड को पसंद करना ही नहीं बल्कि एक दूसरे को इमोशनली फील करना और फ्रीडम देना भी है। इंसान एक सामाजिक प्राणी है और इसे समाज में ही रहना पसंद है। इसलिए दोस्ती जैसा रिश्ता इंसान ने खुद बनाया है। दोस्त एक दिन में नहीं बनते बल्कि यह एक प्रॉसेस है। जिसे सींचा जाता है,एफर्ट डालना होता है ताकि बॉन्ड आगे बढ़े।