लखनऊ/नोएडा: उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी को लेकर घोषणा के कुछ दिन के भीतर ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फिल्म सिटी स्थापित करने की एक महत्वाकांक्षी योजना मंगलवार को सामने रखी और फिल्म बिरादरी को राज्य में आने के लिए एक खुली पेशकश की। मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक बयान के अनुसार उन्होंने यह भी घोषणा की कि गौतम बुद्ध नगर में यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिकी विकास प्राधिकरण (YEIDA) ने 1,000 एकड़ जमीन की पहचान कर ली है, जहां विश्व स्तरीय नागरिक, सार्वजनिक और प्रौद्योगिकी सुविधाओं से युक्त एक समर्पित ‘इंफोटेनमेंट जोन’ की स्थापना की जाएगी।

कहां बनेगी उत्तर प्रदेश की फिल्म सिटी?
बयान में कहा गया है, ‘‘मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रस्तावित स्थल नयी दिल्ली से एक घंटे की दूरी पर है और जेवर में प्रस्तावित अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के बहुत नजदीक है जो कि एशिया का सबसे बड़ा ग्रीनफील्ड हवाई अड्डा होगा।’’ बयान में कहा गया है कि यह आगरा, जहां ताजमहल स्थित है तथा मथुरा से भी नजदीक है जहां भगवान कृष्ण का जन्म हुआ था। साथ ही यह नोएडा में प्रस्तावित ‘लॉजिस्टिक हब’ के भी नजदीक है। इससे इसके लिए परिवहन और आवागमन की सभी सुविधाएं मिलेंगी।

YEIDA के प्रस्ताव पर लगी मुहर
YEIDA ने एक्सप्रेस-वे से लगे सेक्टर 21 में जमीन चिह्नित करने के बाद रविवार को राज्य सरकार को एक प्रस्ताव भेजा था। YEIDA के विशेष कार्य अधिकारी (OSD) शैलेंद्र भाटिया ने कहा, ‘‘राज्य सरकार ने गौतम बुद्ध नगर में यमुना एक्सप्रेस-वे से लगे सेक्टर 21 में फिल्म सिटी स्थापित करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।’’ गौरतलब है कि 18 सितंबर को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मेरठ में मंडलीय समीक्षा के दौरान गौतमबुद्ध नगर जिले में फिल्म सिटी बनाने की घोषणा की थी।

CM योगी का ऐलान
योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि वर्तमान परिस्थितियों में देश को एक अच्छी फिल्म सिटी की आवश्यकता है। प्रदेश यह जिम्मेदारी को लेने के लिए तैयार है और एक बेहतरीन फ़िल्म सिटी बनाई जाएगी। उन्होंने कहा था कि यह फ़िल्म सिटी फ़िल्म निर्माताओं को एक बेहतर विकल्प उपलब्ध कराएगी, साथ ही, रोजगार सृजन की दृष्टि से भी अत्यंत उपयोगी प्रयास होगा। उन्होंने इस सिलसिले में भूमि के विकल्पों के साथ यथाशीघ्र कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश भी तभी दे दिए थे।