आज से देशभर में सभी गाड़ियों के लिए FASTag अनिवार्य हो गया. ऐसे में आप अगर सुबह हाईवे पकड़ कर घूमने निकलने वाले हैं  तो इन 15 सवालों का जवाब जानना जरूरी है.

आज से देशभर में सभी गाड़ियों के लिए FASTag अनिवार्य हो गया. ऐसे में आप अगर सुबह हाईवे पकड़ कर घूमने निकलने वाले हैं  तो इन 15 सवालों का जवाब जानना जरूरी है…

1. क्या निजी गाड़ियों को है कोई छूट?
अगर आपकी गाड़ी की नंबर प्लेट सफेद रंग की है तो फिर हाइवे पर टोल प्लाजा से गुजरने के लिए आपके पास FASTag होना जरूरी है. निजी कार को FASTag से कोई छूट नहीं मिली है.

2. क्या महंगा होगा 2-व्हीलर का सफर?
FASTag की अनिवार्यता से दोपहिया वाहनों को दूर रखा गया है. NHAI के हाइवे पर दोपहिया वाहनों पर टोल नहीं लगता है. तो आपका 2-व्हीलर से वीकेंड ट्रिप अब भी सस्ता रहेगा अगर आप नेशनल हाइवे से जा रहे हैं तो आपके लिए वहां फ्री-लेन से जाने की सुविधा होगी.

3. एक्सप्रेसवे पर भी आएगा काम?
देश में कुछ एक्सप्रेसवे प्राइवेट हैं, लेकिन टोल टैक्स जुटाने की प्रणाली को एकीकृत करने के लिए उन्हें भी FASTag से जोड़ दिया गया है. यमुना एक्सप्रेसवे पर भी FASTag से ही टोल संग्रह किया जा रहा है. यमुना एक्सप्रेसवे पर निजी और कमर्शियल व्हीकल का टोल FASTag से जुटाया जा रहा है जबकि 2-व्हीलर्स के लिए कैश लेन बनी हुई है.

4. क्या पीली नंबर की प्लेट के लिए भी जरूरी?
देश में वाहनों पर पीली नंबर प्लेट कमर्शियल वाहनों के लिए होती है. ऐसे में यदि आप कमर्शियल वाहन चलाते हैं तो फिर चाहें वो ट्रक हो या कैब आपको हाइवे पर टोल प्लाजा से गुजरने के लिए FASTag चाहिए ही चाहिए.

5. कहां से खरीदें FASTag?
NHAI ने देशभर में 40,000 से ज्यादा केंद्र स्थापित किए हैं, जहां से आप FASTag खरीद सकते हैं. इसके अलावा एयरटेल पेमेंट बैंक, पेटीएम और अन्य डिजिटल प्लेटफॉर्म से भी इसे खरीदा जा सकता है?

6. कैसे खरीदें पेटीएम, अन्य से?
पेटीएम और एयरटेल पेमेंट बैंक पर फास्टैग खरीदने के लिए अलग से टैब उपलब्ध कराया गया है. आपको बस करना इतना है कि उस टैब पर क्लिक करके अपने वाहन का रजिस्ट्रेशन नंबर डालना है और साथ में रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (RC) की दोनों साइड की इमेज अपलोड करनी है. उसके बाद आप पेमेंट करके FASTag ऑनलाइन खरीद सकते हैं.

FASTag टोल पर बिना रुकावट आने-जाने में मददगार (सांकेतिक फोटो)

7. कितनी है FASTag की कीमत?
नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया ने फास्टैग की कीमत 100 रुपये तय की है. इसके अलावा 200 रुपये की सिक्युरिटी डिपॉजिट देनी पड़ती है.

8. बैंक से जोड़ने पर क्या फायदा?
FASTag को यदि आप बैंक खाते से जोड़ देतें हैं तो बार-बार रिचार्ज कराने के झंझट से मुक्ति मिल जाएगी. ऐसा करने से आपके टोल प्लाजा पार करने पर खाते से पैसे खुदबखुद कट जाएंगे और आपको एसएमएस से इसकी जानकारी मिल जाएगी.

9. क्या रिचार्ज भी करा सकते हैं?
यदि आप अपने FASTag को बैंक खाते से नहीं जोड़ते हैं तो आप इसे रिजार्च भी करवा सकते हैं. इसे आप यूपीआई, डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड से रिचार्ज कर सकते हैं. वहीं पेटीएम, अमेजन पे, फोनपे, गूगल पे पर अलग से इसे रिचार्ज कराने का टैब दिया गया है. इस पर जाकर आप अपना FASTag नंबर डालकर मेट्रो कार्ड की तरह रिचार्ज करा सकते हैं.

10. क्या-क्या डॉक्यूमेंट चाहिए ?
आप ड्राइविंग लाइसेंस और वाहन के रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट की कॉपी जमा करके FASTag खरीद सकते है. बैंक केवाईसी के लिए यूजर्स के पैन कार्ड और आधार कार्ड की कॉपी भी मांगते हैं.

11. कैसे काम करता है FASTag?
FASTag एक स्टीकर होता है जो वाहनों के विंडस्क्रीन पर लगाया जाता है. टोल पर क्रॉसिंग के दौरान डिवाइस रेडियो फ्रिक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन टेक्नोलॉजी की मदद से टोल प्लाजा पर लगे स्कैनर से कनेक्ट होता है और फिर FASTag से जुड़े अकाउंट से पैसे कट जाते हैं. जिससे टोल प्लाजा पर रुकने की जरूरत नहीं होती है.

12. क्या रखना होगा स्पीड का ध्यान?
FASTag वाले वाहन जब भी टोल प्लाजा से गुजरें तो उनकी रफ्तार 25 से 30 किलोमीटर प्रति घंटा होनी चाहिए. गाड़ी को टोल प्लाजा पर रोकना नहीं चाहिए, यदि टोल प्लाजा से बहुत धीरे गाड़ी निकालते हैं तो बूम बैरियर से टकरा सकते हैं क्योंकि एक निश्चित समय के बाद वह बैरियर गिर जाता है. यदि आपका FASTag नहीं पढ़ा जाता है तो टोल प्लाजा कर्मी से बात करें वह हैंडहेल्ड मशीन से FASTag रीड कर देगा.