तेज गेंदबाजों का खौफ हमेशा ही क्रिकेट की दुनिया में चर्चा का विषय रहा है. इसका तोड़ निकालने में इंग्लैंड के बल्लेबाज डेनिस एमिस का नाम सबसे ऊपर है. 44 साल पहले एमिस को ही क्रिकेट में सबसे पहले हेलमेट के इस्तेमाल का श्रेय जाता है.

तेज गेंदबाजों का खौफ हमेशा ही क्रिकेट की दुनिया में चर्चा का विषय रहा है. इसका तोड़ निकालने में इंग्लैंड के बल्लेबाज डेनिस एमिस का नाम सबसे ऊपर है. 44 साल पहले एमिस को ही क्रिकेट में सबसे पहले हेलमेट के इस्तेमाल का श्रेय जाता है. आज (7 अप्रैल) उनका जन्मदिन है. वे 78 साल के हो गए. ये वही डेनिस एमिस हैं, जिन्होंने क्रिकेट के कई शुरुआती रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज किए.

वनडे इंटरनेशनल का पहला शतक, वो भी डेब्यू में

इंग्लैंड के सलामी बल्लेबाज डेनिस एमिस ने वनडे इंटरनेशनल का पहला शतक (103 रन) जमाया था. वह वनडे में डेब्यू करते हुए शतक लगाने वाले पहले बल्लेबाज भी रहे. उन्होंने 24 अगस्त 1972 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैनचेस्टर में ये उपलब्धियां हासिल की थीं.

वर्ल्ड कप का भी पहला शतक डेनिस एमिस के नाम

वर्ल्ड कप का पहला शतक भी डेनिस एमिस के नाम है. उन्होंने पहले वर्ल्ड कप के दौरान लॉर्ड्स (7 जून 1975) में भारत के खिलाफ 137 रन बनाए थे. मदन लाल ने उन्हें बोल्ड किया था. यह वर्ल्ड कप का पहला मैच था. मजे की बात है कि एमिस का शतक पूरा होने के कुछ ही ओवरों के बाद न्यूजीलैंड के कप्तान ग्लेन टर्नर ने ईस्ट अफ्रीका के खिलाफ एजबेस्टन में शतक लगाया था. उन्होंने नाबाद 171 रन बनाए, लेकिन वर्ल्ड कप का वह दूसरा मैच था.

… जब पैकर की वर्ल्ड सीरीज में हेलमेट लाना पड़ा

44 साल पहले वह भी एक दौर आया, जब कैरी पैकर की विद्रोही वर्ल्ड सीरीज क्रिकेट में तूफानी गेंदबाजी दहशत बन बन चुकी थी. वर्ल्ड सीरीज के पहले ही सीजन में ऑस्ट्रेलियाई डेविड हुक्स कैरेबियाई आंधी एंडी रॉबर्ट्स के खतरनाक बाउंसर (दिसंबर 1977) पर अपना जबड़ा तुड़वा बैठे थे. इसी के बाद डेनिस एमिस उस सीरीज में अपना सिर बचाने के लिए हेलमेट के साथ पिच पर उतरे.

खतरनाक गेंदबाजी से बल्लेबाजों में दहशत थी

दरअसल, वर्ल्ड सीरीज में डेनिल लिली और जैफ थॉमसन औसतन 90 मील प्रति घंटे की रफ्तार से गेंदें डाल रहे थे. ऐसे में डेनिस एमिस को एक तरकीब सूझी. वे ऑस्ट्रेलियाई और वेस्टइंडियन फास्ट बोलर्स को खेलने के लिए एक कंपनी से मोटरसाइकिल वाला हेलमेट उठा लाए. हालांकि ऐसा हेलमेट लगाकर बल्लेबाजी करना आसान नहीं था.

ऐसा था वह मोटरसाइकिल हेलमेट

डेनिस एमिस ने 14 साल पहले एक इंटरव्यू में स्वीकार किया था कि इससे बल्लेबाजी के दौरान कान पूरी तरह ढंक जाते थे. क्रीज पर मौजूद साथी बल्लेबाज की बातें सुनने में मुश्किल होती थी, जिससे रन आउट का खतरा बना रहता था. फाइबर ग्लास का बना यह हेलमेट काफी भारी था, और पसीने से पूरा सिर तर बतर हो जाता था.

टेस्ट में पहली बार 1978 में हेलमेट दिखा

टेस्ट मैच में पहली बार 1978 में हेलमेट का इस्तेमाल किया गया. जब वेस्टइंडीज के खिलाफ ब्रिजटाउन टेस्ट में ग्राहम यलप ने डेनिस एमिस से सीख लेते हुए इंडीज के तेज आक्रमण का सामना किया. हालांकि दर्शकों को उस ऑस्ट्रेलियाई का हेलमेट पहनना बिल्कुल अच्छा नहीं लगा. उनकी जोरदार हूटिंग भी हुई.

सोबर्स और गावस्कर ने कभी हेलमेट नहीं लगाए

इसे अपवाद ही माना जाएगा कि गैरी सोबर्स ने अपने चमकदार करियर के दौरान बिना किसी सुरक्षा उपाय के (थाई पैड भी नहीं) तेज गेंदबाजों का सामना किया. सुनील गावस्कर को भी उन्हीं की श्रेणी में रखा जा सकता है. हालांकि उन्होंने अपने पूरे क्रिकेट जीवन में बल्लेबाजी के दौरान अपने हैट के नीचे फाइबर स्कल प्रोटेक्टर का इस्तेमाल किया.

डेनिस एमिस FACTS

1. डेनिस एमिस (1966-1977) ने इंग्लैंड की ओर से 50 टेस्ट मैचों में 11 शतक और इतने ही अर्धशतक जमाए. उनके 11 में से 8 शतक तो 150 रनों से ऊपर के रहे.

2. डेनिस एमिस (1960-1987) ने 1986 में प्रथम श्रेणी क्रिकेट करियर में अपने 100 शतक पूरे किए. उल्लेखनीय है कि अब तक एमिस समेत 25 खिलाड़ियों के नाम फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 100+ शतक हैं. सुनील गावस्कर और सचिन तेंदुलकर ने 81-81 प्रथम श्रेणी शतक लगाए.