26 जनवरी को दिल्ली में हुए ट्रैक्टर रैली निकलने के बाद हुए हादसा से पूरा देश आहत है.हंगामा में करीब 300 पुलिसकर्मी जख्मी हुए है.और एक किसान की ट्रैक्टर पलट जाने से मौत भी हो गयी.कुछ कईसन भी काफी बुरी तरह जख्मी भी हो गए.ये घटना होने के बाद किसान नेता पर हर कोई ऊँगली उठा रहा की जो भी हुआ गलत हुआ.

किसान नेता यूद्धवीर सिंह ने हिंसा को लेकर दिल्ली पुलिस से माफ़ी मांगी और कहा जो भी हुआ उससे हम शर्मिंदा है. गुरुवार को मीडिया से बात करते हुए यूद्धवीर सिंह ने कहा की जो दो किसान संगठन अलग हुए है वो पहले भी अलग ही थे मगर अपने क्षेत्र के दबाव में वो संयुक्त किसान मोर्चा में शामिल हुए थे .

यूद्धवीर सिंह में कहा जो भी 26 जनवरी को हुआ बेहद ही शर्मनाक हुआ ऐसे नहीं होना चाहिए था. उन्होंने कहा हम इस घटना से शर्मिंदा है.उनका कहना है की कोई भी देशव्यापी आंदोलन तबतक सफल नहीं होता जबतक दोनों तरफ से सहयोग नहीं की जाए.उन्होंने बताया की ग़ाज़ीपुर बॉर्डर के पास जो उप्रदवी घुसे थे वो हमारे लोग नहीं थे.

किसानो ने दिल्ली पुलिस से माफ़ी मांगी और अपनी गलती भी स्वीकार की.नेताओं ने कहा 30 को हम उपवास रखेंगे.