हाल ही में पॉप सिंगर रिहाना, पर्यावरण एक्टि‍विस्ट ग्रेटा थनबर्ग और मियां खलीफा ने भारत में चल रहे किसान आंदोलन का समर्थन किया था. इसके प्रतिक्रिया स्वरूप देश के कई नेता, अभि‍नेता, खि‍लाड़ी और अन्य हस्ति‍यों ने देश की एकता का समर्थन करते हुए ट्वीट किया था, जिनमें मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर भी शामिल थे.

राष्ट्रवादी कांग्रेस पाटी (एनसीपी) नेता शरद पवार को सरेआम थप्पड़ मारने की एक छोटी सी वीडियो क्लि‍प सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. दावा किया जा रहा है कि शरद पवार ने हाल ही में सचिन तेंदुलकर को लेकर जो बयान दिया था, उसी की प्रतिक्रिया में एक शख्स ने उन्हें थप्पड़ मार दिया.

हाल ही में पॉप सिंगर रिहाना, पर्यावरण एक्टि‍विस्ट ग्रेटा थनबर्ग और मियां खलीफा ने भारत में चल रहे किसान आंदोलन का समर्थन किया था. इसके प्रतिक्रिया स्वरूप देश के कई नेता, अभि‍नेता, खि‍लाड़ी और अन्य हस्ति‍यों ने देश की एकता का समर्थन करते हुए ट्वीट किया था, जिनमें मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर भी शामिल थे. सचिन के ट्वीट के बाद एनसीपी नेता शरद पवार ने उन्हें हिदायत देते हुए “किसी अन्य क्षेत्र के बारे में बोलते हुए सावधानी बरतने” की सलाह दी थी. कई फेसबुक और ट्विटर यूजर्स ने 10 सेकेंड के इस वीडियो  को पोस्ट किया है जिसमें एनडीटीवी का लोगो दिखाई दे रहा है.

शरद पवार को थप्पड़ मारने की ये घटना 24 नवंबर, 2011 को दिल्ली में हुई थी. पवार उस समय केंद्रीय कृ‍षि‍ मंत्री थे. अरविंदर सिंह नाम के एक आदमी ने बढ़ती महंगाई को लेकर उन्हें थप्पड़ मारा था. ऐसी कुछ पोस्ट के आर्काइव यहांयहां  और यहां देखे जा सकते हैं.
पवार को थप्पड़ मारने की घटना

कीवर्ड सर्च की मदद से हमने पाया कि शरद पवार को अरविंदर सिंह उर्फ हरविंदर नाम के एक शख्स ने 24 नवंबर, 2011 को थप्पड़ मारा था. पवार उस समय कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार में कृषि मंत्री थे. यह घटना राजधानी में नई दिल्ली नगरपालिका परिषद (एनडीएमसी) मुख्यालय में हुई थी जब पवार एक साहित्यिक समारोह में भाग लेने के बाद भवन परिसर से बाहर निकल रहे थे. ये पूरी घटना कैमरे में कैद हो गई थी. उस समय एनडीटीवी ने एक घटना के बारे में खबर चलाई थी. वायरल वीडियो उसी रिपोर्ट का एक हिस्सा है.

पवार पर हमला करने वाले उस व्यक्ति‍ को बाद में गिरफ्तार कर लिया गया था. उसने कथित तौर पर जरूरी चीजों की बढ़ती कीमतों को लेकर पवार पर हमला किया था. जब सुरक्षाकर्मी उसे पकड़कर ले जाने लगे तब वह चिल्ला रहा था, “भ्रष्ट नेताओं को ये मेरा जवाब है.”

खबरों के मुताबिक, अरविंदर वही आदमी है जिसने इसके पहले दिल्ली हाईकोर्ट परिसर में केंद्रीय दूरसंचार मंत्री सुखराम को थप्पड़ मारा था. सुखराम को भ्रष्टाचार के एक केस में पांच साल जेल की सजा सुनाई गई थी.अरविंदर को 2014 में दिल्ली की एक अदालत ने घोषित अपराधी करार दिया था क्योंकि कोर्ट में ट्रायल के दौरान वह लापता हो गया था. बाद में, 2019 में उसे गिरफ्तार किया गया था.

इस तरह पड़ताल से साफ है कि शरद पवार को एक शख्स के थप्पड़ मारने की घटना 2011 की है. तेंदुलकर पर पवार के बयान से इसका कोई लेना-देना नहीं है.