वर्षों पहले महात्मा गांधी ने कहा था- स्त्रियों की आर्थिक परतंत्रता दूर करके ही उन्हें सशक्त और स्वाबलंबी बनाया जा सकता है और ऐसा करने के लिए वे उद्योग से जुड़े। छोटे -छोटे उद्योग से जुड़ कर महिलाएं न केवल आर्थिक रूप से स्वाबलंबी होगी अपितु वह पारिवारिक विकास और देश की उन्नति में भी सहायक होगी। जी हां इसी सोच को पूरा करने के संकल्प के साथ जीविका दीदियों का पांच दिवसीय उद्यमशीलता विकास पर आधारित प्रशिक्षण का आयोजन सेवा केंद्र पादरी दसईया,बेतिया में दिनांक 6.01.21 से 10.01.21 तक किया गया।

कार्यक्रम के दौरान जीविका दीदियों को सोलर और LED बल्ब,सोलरटॉर्च, पंप सेट,सोलर चुल्हा आदि उपकरणों की संभावनाओं,उस पर वर्तमान और भविषय की निर्भरता,उससे संबंधित बाजार एवं इससे आय की संभावनाओं पर साधनसेवियों द्वारा वृहत चर्चा की गई। इस दौरान जीविका दीदियों को उद्यमशीलता की परिभाषा,उसकी विशेषता,उसके गुण विषयक बातों पर चर्चा की गई। उद्यमशीलता विकास से संबंधित प्रेरक एवं रोचक कहानियों तथा फिल्मों द्वारा दीदियों का क्षमतावर्द्धन किया गया। फिर जीविका दीदियों द्वारा स्थानीय जरूरतों के अनुसार सोलर सामग्री एवं उसके स्थानीय बाजार में कीमत से संबंधी जानकारियों पर प्रस्तुतीकरण किया गया।

प्रशिक्षण के समापन कार्यक्रम में भाग लेते हुए जिला परियोजना प्रबंधक,जीविका श्री अविनाश कुमार द्वारा बताया गया कि यह समय नवप्रवर्तन का है और नवप्रवर्तन के लिए उद्यमशीलता का होना आवश्यक है। परिवार तथा समाज के विकास के लिए भी महिलाओं का स्वावलंबी होना आवश्यक है। सोलर ऊर्जा का प्रयोग आज की जरूरत है।

प्रबंधक सामाजिक विकास श्री नरेश कुमार द्वारा बताया गया कि सोलर ऊर्जा के प्रयोग से हमें एक तो स्वच्छ ऊर्जा मिलता ही है,यह पर्यावरण की सुरक्षा एवं संरक्षा की दृष्टि से भी जरूरी है।राज्य सोलर परामर्शदाता श्री अमित कुमार सिंह द्वारा सोलर ऊर्जा के महत्व पर चर्चा करते हुए बताया गया कि हमें सौर ऊर्जा के प्रयोग को बढ़ावा देते हुए सोलर आधारित गतिविधियों पर बल देना जरूरी है। उद्यमशीलता विशेषज्ञ श्री बैद्यनाथ द्वारा बताया गया कि जीविका दीदियों में उद्यमशीलता की अनंत संभावनाएं है,जिसे प्रशिक्षण द्वारा प्रभावी बनाया जा सकता है बताते चलें कि जीविका दीदियों द्वारा जिले में अब तक 3.50 लाख लैम्पों का वितरण विद्यालय के छात्रों के बीच असेम्बल कर किया जा चुका है। जिसके मरम्मत का कार्य भी जीविका दीदियों द्वारा रिपेयरिंग एंड मेंटेनेंस सेंटर खोलते हुए किया जा रहा है। यह उद्यमिता विकास प्रशिक्षण भी इसी कड़ी का हिस्सा है।

इस अवसर पर साधनसेवी के रूप में श्री अंकित कुमार,चुन्नी अश्वनी तथा प्रशिक्षु के रूप में रामनगर एवं नरकटियागंज की कुल 20 जीविका दीदियां उपस्थित थीं।