एटीट्यूड, अटेंशन और एडजस्टमेंट पर गौर करें

मीनाक्षी त्रिपाठी ने बताया कि कई बार हमें एहसास ही नहीं होता कि अब हमारी सुनने की क्षमता कम होती जा रही है। इसको समझने का अच्छा तरीका यह है, जब भी आप से कोई बात करें तो अपनी तीन बातों एटीट्यूड, अटेंशन और एडजस्टमेंट पर गौर करें। देखें कि जब आपसे कोई कुछ कहता है तो आपको सुनने का मन होता है या नहीं।यह नोटिस करें कि किसी की बात सुनते- सुनते कहीं आपका ध्यान छोटी- छोटी चीजों के कारण भटक तो नहीं जाता। एडजस्टमेंट को जांच करने का तरीका यह है कि जो बात कही जा रही है, क्या आप उसके साथ प्रवाह में है। मन से उससे जुड़े सवाल नहीं आ रहे हैं, तो आप वक्ता के साथ एक एकलय नहीं है।

ऑनलाइन क्लास के कायदे

ऑनलाइन क्लास अटेंड करते वक्त बच्चे भाषा का ध्यान रखें। ऐसी बात ऑनलाइन क्लास में ना कहे जिससे आप टीचर के सामने फेस टू फेस होने पर कहने से डरेंगे या हिचकिचाएंगे। टीचर से कुछ चैट बॉक्स में पूछ रहे हैं तो वाक्य को भेजने से पहले एक बार बोल कर पढ़ ले। ऐसा तो नहीं कि भाषा रूखी ही और गुस्से में लिखी महसूस हो। कुछ लिखकर कम्युनिकेट कर रहे हैं तो ग्रामर का पूरा ध्यान रखें और शॉर्टकट ना लिखें।