देश के कई राज्यों में बर्ड फ्लू से हजारों पक्षियों के मरने की पुष्टि हो चुकी है. कई राज्यों में अलर्ट जारी हो गया है. पोल्ट्री फॉर्म के उत्पाद नहीं खाने की सलाह दी गई है. हिमाचल प्रदेश, केरल, राजस्थान में बर्ड फ्लू के चलते हजारों पक्षी मर गए हैं. हिमाचल में इस मौसम में प्रवासी पक्षी बहुतायत में कांगड़ा और आसपास के इलाकों में आते हैं. सोमवार तक के आंकड़े करीब 2300 पक्षियों के मौत की पुष्टि कर रहे हैं. इसके बाद राज्य सरकार ने कई इलाकों के पक्षियों को मारने के लिए आदेश दिए हैं. ये बीमारी इंसानों तक भी पहुंच सकती है. ये जानलेवा भी हो सकती है.
जानिए क्या हैं इसके लक्षण—
1.ये फ्लू भी आमतौर पर सामान्य फ्लू की तरह ही होते है।
2.ये फ्लू पक्षी के फेफड़ों पर हमला करता है। जिससे न्यूमोनिया का खतरा बढ़ जाता है।
3.सांस का उखड़ना, गले में खराश, तेज बुखार, मांसपेशियों और पेट दर्द ये सब भी इसके लक्षण हैं।

आपको बता दें की केरल के कोट्टायम और अलप्पुझा जिलों के कुछ हिस्सों में बर्ड फ्लू फैलने की जानकारी सामने आई है, जिसके चलते प्रशासन ने प्रभावित क्षेत्रों में और उसके आसपास एक किलोमीटर के दायरे में बत्तख, मुर्गियों और अन्य घरेलू पक्षियों को मारने का आदेश दिया है। अधिकारियों ने कहा कि एच5एन8 वायरस के प्रसार की रोकथाम के लिए करीब 40,000 पक्षियों को मारना पड़ेगा। कोट्टायम जिला प्रशासन ने कहा कि नींदूर में एक बत्तख पालन केंद्र में बर्ड फ्लू पाया गया है और वहां करीब 1,500 बत्तख मर चुकी हैं।

कैसे बचें इससे —
1.संक्रमित पक्षियों से दूर रहें, खासकर मरे पक्षियों से बिल्कुल दूर रहें.
2.बर्ड फ्लू का संक्रमण अगर फैला है तो नॉनवेज ना खाएं
3.नॉनवेज खरीदते समय साफ-सफाई पर नजर रखें
4.संक्रमण वाले एरिया में कोशिश करें कि ना जाएं अगर जाएं तो मास्क पहनकर जाएं