Google के ऐड ट्रैकिंग की आलोचना कई लोग करते हैं. जानी-मानी कंपनी Apple भी Google के ऐड ट्रैकिंग पर सवाल खड़े करते रहता है. अब प्राइवेसी फोक्सड सर्च इंजन DuckDuckGo ने भी Google के ऐड ट्रैकिंग मैथेड पर सवाल उठाए हैं. DuckDuckGo ने कहा है कि गूगल का ऐड ट्रैकिंग प्राइवेसी और ग्रुप यूजर्स के लिए सही नहीं है.

DuckDuckGo के अनुसार Google के ब्राउजिंग हिस्ट्री की वजह से कोई भी वेबसाइट ग्रुप आईडी का यूज करके उन्हें ऐड से टारगेट कर सकता है.

Google ने हाल में ही FloC (Federated Learning of Cohorts) टेक के बार में घोषणा किया था. ये टेक काफी प्राइवेसी फोक्सड तरीके से यूजर्स को ट्रैक करके उन्हें ऐड दिखा सकता है. कंपनी जल्द ही FloC को क्रोम में यूज करने जा रही है. इस वजह से ये करोड़ो के लिए ऑटोमेटिकली ऑन हो जाएगा.

DuckDuckGo ने कहा है कि गूगल क्रोम यूजर्स के पास इसको लेकर कोई चॉइस नहीं रहेगा. यूजर्स ना चाहते हुए भी गूगल के नए ट्रैकिंग मैथेड का हिस्सा बन जाएंगे. प्राइवेसी फोक्सड DuckDuckGo ने यूजर्स से कहा है कि FLoC के ट्रैकिंग को ब्लॉक कर अपने प्राइवेसी को प्रोटेक्ट करें.

DuckDuckGo ने कहा है कि वो गूगल के अल्टरनेटिव ब्राउजर को यूज करने की सलाह देते हैं. गूगल क्रोम के अलावा कोई भी ब्राउजर FLoC नहीं यूज करता है. मार्केट में कई तरह के ब्राउजर उपलब्ध है. वो सभी फ्री है. इसके अलावा यूजर्स चाहे तो iOS या Android का इनबिल्ट ब्राउजर भी यूज कर सकते हैं. ये ब्राउजर डिफॉल्ट रुप से सर्चिंग और ब्राउजिंग के लिए बेस्ट इन क्लास प्राइवेसी प्रोटेक्शन देते हैं.

DuckDuckGo ने यूजर्स को सलाह दी है कि वो अपने हिस्ट्री डेटा को क्रोम के साथ सिंक ना करें. गूगल एक्टिविटी कंट्रोल्स में Web & App Activity को डिसेबल कर दें. आपको बता दें कि DuckDuckGo एक सर्च इंजन है जिसे प्राइवेसी पसंद करने वाले लोग यूज करते हैं. कंपनी का दावा है और ये एक्सपर्ट्स ने टेस्ट भी किया है कि ये कंपनी यूजर्स के डेटा का लॉग नहीं रखता है.