डीयू में ओपन बुक परीक्षा को लेकर छात्रों की परेशानी जारी है। गुरुवार को भी कई छात्रों ने शिक्षकों से कहा कि पोर्टल ठीक से काम नहीं करने के कारण काफी परेशानी आई है। यह परेशानी न केवल एसओएल, रेगुलर, बल्कि नॉन कॉलेजिएट वुमन एजुकेशन बोर्ड के विद्यार्थियों के साथ भी आई है। एनएसयूआई के राष्ट्रीय मीडिया उप-प्रभारी मोहम्मद अली का कहना है कि छात्र अपनी परेशानियां हम लोगों से बयां कर रहे हैं। बेहतर इंटरनेट न होने के कारण छात्र पेपर पोर्टल पर अपलोड नही कर पा रहे हैं। जैसे-तैसे हम दिल्ली विश्वविद्यालय की ई-मेल आईडी पर भेजते है तो ईमेल पहुंचने के बाद कोई जवाब नहीं आता।

कई बार अगले दिन ईमेल आती है कि आपका पेपर स्वीकार नहीं किया गया है, ऐसे में छात्र क्या करें। वर्तमान में देश के ज्यादातर राज्य बाढ़ से जूझ रहे हैं। इस कारण बिजली और इंटरनेट व्यवस्था ठप है। ऐसे में छात्रों से ओपन बुक परीक्षा लेना छात्रों का भविष्य बर्बाद करने जैसा है।

एनएसयूआई दिल्ली विश्वविद्यालय प्रशासन से मांग करती है कि अभी भी समय है देश की वर्तमान परिस्थिति को देखते हुए छात्र हित में ओपन बुक परीक्षा रद्द करें और सभी छात्रों को बिना परीक्षा प्रमोट किया जाए।

प्रवेश परीक्षा दोबारा कराने की मांग
एबीवीपी ने साउथ एशियन यूनिवर्सिटी में प्रवेश के लिए आयोजित ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा में आई तकनीकी समस्याओं को लेकर विवि प्रशासन को ज्ञापन सौंपा है। एबीवीपी की मांग है कि प्रवेश परीक्षा का आयोजन दोबार किया जाए।

साउथ एशियन यूनिवर्सिटी के लिए 12 व 13 अगस्त को प्रवेश परीक्षा सेंटर बेस्ड मोड तथा प्राक्टेड मोड में परीक्षा हुई थी, जिसमें घर से प्राक्टेड मोड पर परीक्षा दे रहे कई छात्रों के सामने तकनीकी समस्याएं आईं। कई छात्र लॉगइन नहीं कर पाए। कई अभ्यर्थियों का परीक्षा के दौरान तय समय-सीमा के बहुत पहले ही पोर्टल शटडाउन हो गया‌। एबीवीपी के दिल्ली के प्रदेश मंत्री सिद्धार्थ यादव ने कहा कि छात्रों की प्रवेश परीक्षा संबंधी शिकायतों का शीघ्र समाधान यूनिवर्सिटी प्रशासन द्वारा किया जाना चाहिए, जिससे तकनीकी समस्या के चलते किसी योग्य अभ्यर्थी का वर्ष न खराब हो। बड़ी संख्या में छात्रों ने प्राक्टेड मोड की तकनीकी समस्याओं पर अपना रोष जताया है।