दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। आधुनिक समय में मधुमेह का खतरा अधिक बढ़ गया है। चूंकि लोग शारीरिक श्रम कम और मानसिक श्रम अधिक करने लगे हैं। इससे उनके जीवन पर विपरीत प्रभाव पड़ने लगे हैं। कहने का तात्पर्य यह है कि आजकल लोग तनाव में अधिक जीते हैं। जबकि लोगों की जीवन शैली भी बदल गई है। खासकर मोटापे और मधुमेह से पीड़ित लोगों पर ख़राब जीवनशैली और तनाव का प्रतिकूल असर पड़ता है। अगर आप भी मधुमेह के मरीज हैं और तनाव भरी ज़िंदगी जी रहे हैं, तो अपनी आदत और खानपान में सुधार करें। इसके साथ ही वर्कआउट भी रोजाना करें। अगर वर्क आउट नहीं कर पाते हैं, तो योग करें। कई ऐसे योगासन हैं, जिन्हें करने से मधुमेह रोग में आराम मिल सकता है। अगर आपको नहीं पता है, तो आइए जानते हैं-

अर्ध मत्स्येन्द्रासन करें

इस योग को करने से फेफड़ों में ऑक्सीजन का संचार होता है। जबकि फेफड़े और रीढ़ में रक्त संचार सक्रिय रूप से होता है। साथ ही पेट में भी खिंचाव पैदा होता है, जिससे अग्नाशय पर अनुकूल प्रभाव पड़ता है। इससे अग्नाशय के कार्य में गति आती है, जो इन्सुलिन के उत्पादन में सहायक होता है। अतः डायबिटीज़ के मरीज अर्ध मत्स्येन्द्रासन योग को रोजाना करें।

प्राणायाम करें

मधुमेह के रोगियों को प्राणायाम जरूर करना चाहिए। इससे शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ती है। जबकि तनाव कम होता है। इसके लिए आप भ्रस्रिका प्रणायाम का सहारा ले सकते हैं। भस्त्रिका प्राणायाम करने में बेहद सरल और सहज है। इस योग को करने से रक्त चाप नियंत्रित रहता है। जबकि शरीर में रक्त का संचार सुचारू रूप से होता है। साथ ही श्वसन तंत्र मजबूत होता है। तनाव से जूझ रहे लोगों को भस्त्रिका प्राणायाम रोजाना करना चाहिए।