भारतीय तेज गेंदबाज इशांत शर्मा ने पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने हमेशा मेरा सपोर्ट किया। 50-60 टेस्ट खेलने के बाद भी उन्होंने कभी नहीं कहा कि वे मेरा विकल्प ढूंढ रहे हैं। इशांत ने कहा कि 97 टेस्ट खेलने के बाद भी मैं औसत और स्ट्राइक रेट को नहीं समझ पाया। मैंने कभी इन चीजों की परवाह ही नहीं की। उन्होंने ईएसपीएन क्रिकइंफो के शो ‘क्रिकेट बाजी’ में यह बातें कहीं।32 साल के इशांत ने कहा कि अगर मैं उन्हें समझ नहीं पाता, तो मैं उन पर कैसा भरोसा करता?। औसत और स्ट्राइक रेट एक आंकड़ा भर है। अगर मैं भारत में गेंदबाजी कर रहा हूं और कप्तान मुझसे कहे कि तुम्हें ऐसी गेंदबाजी करनी है कि 20 ओवर में 40 से ज्यादा रन न जाएं, बाकी विकेट लेने का काम स्पिनर्स करेंगे, तो मैं ऐसा करूंगा।