भारतीय रेलवे अपने स्टेशनों को विश्व स्तरीय बनाने के लिए लगातार काम कर रहा है. रेलवे स्टेशन डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन (IRSDC) मुंबई स्थित छत्रपति शिवाजी टर्मिनल (CST) रेलवे स्टेशन को रीडेवलप करने उसे आधुनिक बनाने की योजना पर काम कर रहा है. इस स्टेशन को डेवलप करने के लिए 1642 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे. इस रीडेवलपमेंट के तहत स्टेशन पर यात्री सुविधाएं बढ़ाए जाने के साथ ही स्टेशन की खूबसूरती को और बढ़ाने के लिए काम किया जाएगा. इस प्रोजेक्ट में स्टेशन की ऐतिहासिक बिल्डिंग में बिना किसी बड़े बदवाल के डेवलपमेंट करना बड़ी चुनौती होगी.

जल्द ही होगी प्री बिड मीटिंग
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सीएसटी स्टेशन के रीडेवलपमेंट के लिए पहली प्री बिड मिटिंग 22 सितम्बर को होनी है. खबरों के मुताबिक पहली बार ऐसा होगा कि बिडिंग में फंडिंग एजेंसियों को भी शामिल किया जाएगा. देश की नेशनल फंडिंग एजेंसी एनआईआईएफ के साथ ही बात की जा रही है.

कई इंफ्रा कंपनियों से भी हो रही है बात
कई बड़ी इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनियों जैसे एलएनटी और टाटा कंस्ट्रक्शन जैसी इंफ्रा कंपनियों से भी इस बिडिंग प्रक्रिया में शामिल होने के लिए बातचीत की जा रही है. जिस भी कंपनियों को इस स्टेशन को डेवलप करने का काम मिलेगा उसे अगले 4 सालों में इस काम को पूरा करना होगा.

रेलवे में निवेश का बड़ा मौका
प्राइवेट कंपनियों, इंफ्रा कंपनियों और फंडिंग एजेंसीज के लिए रेलवे में निवेश करने का ये बड़ा मौका है. सीएसटी रेलवे स्टेशन के रीडेवलपमेंट के बाद यहां से यात्रा करने वाले यात्रियों को यूजर डेवलपमेंट फीस देनी पड़ सकती है. इसके साथ ही स्टेशन के आसपास खाली पड़ी जमीन के कॉमर्शियल डेवलपमेंट और उसके इस्तेमाल से भी कमाई के मौके बनेंगे.