भारत में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच कोरोना वैक्सीन का इंतजार जल्द खत्म होने वाला है। शुक्रवार को सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि अगले कुछ सप्ताह में कोरोना वैक्सीन देश में उपलब्ध हो जाएगी। सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जैसे ही वैज्ञानिकों की हरी झंडी मिलेगी, भारत में टीकाकरण अभियान शुरू कर दिया जाएगा। प्रधानमंत्री मोदी ने ये भी कहा कि ‘पहले चरण में किसे वैक्सीन लगेगी, इसे लेकर भी केंद्र सरकार राज्य सरकारों से मिले सुझावों के आधार पर काम कर रही है।’ भारत 1.6 अरब खुराक के साथ दुनिया में कोविड-19 टीके का सबसे बड़ा खरीदार होगा। वैज्ञानिकों के मुताबिक 80 करोड़ लोगों या आबादी के 60 प्रतिशत हिस्से का टीकाकरण किया जा सकेगा। देश में हर्ड इम्युनिटी विकसित करने के लिए भी इतनी संख्या पर्याप्त होगी।

 

इन्हें लगेगा सबसे पहले कोरोना टीका

– प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि कोरोना के मरीजों के इलाज में जुटे हेल्‍थकेयर वर्कर्स, फ्रंटलाइन वर्कर्स और जो पहले से गंभीर बीमारियों से जूझ रहे बुजुर्गों को कोरोना का टीका पहले दिया जाएगा।

– पहला प्रॉयरिटी ग्रुप हेल्‍थकेयर वर्कर्स का है, जिन्होंने महामारी के खिलाफ शुरुआत से लड़ाई लड़ी है ऐसे लोगों में डॉक्‍टर्स, नर्सेज, पैरामेडिक्‍स, हेल्‍थकेयर सपोर्ट स्‍टाफ इस ग्रुप में शामिल होंगे।

– दूसरे नंबर पर फ्रंटलाइन वर्कर्स है, जिनमें हेल्‍थकेयर के अलावा सेना, पुलिस, फायर ब्रिगेड, नगर निगम जैसे सेक्‍टर्स के लोग शामिल होंगे।

– तीसरे चरण में 50 साल की उम्र से ज्यादा के लोगों को शामिल किया जाएगा। कोविड-19 का प्रभाव इससे ज्‍यादा उम्र वाले लोगों पर अधिक देखने को मिला है।

– चौथे चरण में 50 साल से कम उम्र के ऐसे लोग शामिल होंगे जिन्हें पहले से कोई गंभीर बीमारी है।