देश की राजधानी दिल्ली में लॉकडाउन के बावजूद कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है. इस वजह से कोरोना टेस्टिंग बढ़ी है. वहीं एक्टिव कोरोना मरीजों की संख्या एक लाख के करीब पहुंच चुकी है. कोरोना से मरने वालों की कुल संख्या 15 हजार के पार हो चुकी है.

दिल्ली में बीते दिन रिकॉर्ड 81,829 लोगों का कोरोना टेस्ट किया गया, जिसमें से 25,986 लोग संक्रमित मिले. यानी कि पॉजिटिविटी रेट 31.76 फीसदी रहा. हालांकि बीच में एक दिन दिल्ली में कोरोना टेस्टिंग में गिरावट दर्ज की गई थी. सोमवार को केवल 57,600 कोरोना टेस्ट हुए थे.

दिल्ली में बीते 7 दिनों की कोरोना स्थिति

  • 28 अप्रैल को 81,829 टेस्ट हुए, जिसमें से 25,986 पॉजिटिव मिले, 368 की जान गई
  • 27 अप्रैल को 73,811 टेस्ट हुए, जिसमें से 24,149 पॉजिटिव मिले, 381 की जान गई
  • 26 अप्रैल को 57,600 टेस्ट हुए, जिसमें से 20,201 पॉजिटिव मिले, 380 की जान गई
  • 25 अप्रैल को 75,912 टेस्ट हुए, जिसमें से 22,933 पॉजिटिव मिले, 350 की जान गई
  • 24 अप्रैल को 74,701 टेस्ट हुए, जिसमें से 24,103 पॉजिटिव मिले, 357 की जान गई
  • 23 अप्रैल को 75,037 टेस्ट हुए, जिसमें से 24,331 पॉजिटिव मिले, 348 की जान गई
  • 22 अप्रैल को 72,208 टेस्ट हुए, जिसमें से 26,169 पॉजिटिव मिले, 306 की जान गई

दिल्ली में अबतक 15,377 संक्रमितों की मौत
दिल्ली में बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना से 368 व्यक्तियों की मृत्यु हुई है. राजधानी में कोरोना से अभी तक कुल 15,377 मौतें हो चुकी हैं. बीते दिन 20,458 कोरोना मरीज ठीक भी हुए हैं. दिल्ली में जहां कोरोना की पॉजिटिविटी दर 31.76 फीसदी है. वहीं 99,752 एक्टिव कोरोना मरीजों में से 53,819 होम आइसोलेशन में रह रहे हैं. जबकि बाकी मरीजों को दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों व कोरोना केंद्रों में भर्ती कराया गया है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का कहना है कि कोरोना की लहर पहले से ज्यादा खतरनाक है. आईसीयू बेड की बहुत ज्यादा डिमांड है. आईसीयू बेड भरे हुए हैं. इसको देखते हुए दिल्ली सरकार ने अस्थाई आईसीयू वह ऑक्सीजन बेड बनाने की तैयारी शुरू कर दी है.