ICC के CEO ज्योफ अलार्डिस ने कहा कि उनके पास इस साल के अंत में भारत में होने वाले टी20 विश्व कप के लिये ‘बैकअप’ प्लान है. लेकिन इस समय यहां कोविड-19 मामलों में बढ़ोतरी के बावजूद देश से इसे हटाने के किसी भी विचार के बारे में नहीं सोच रहे हैं.

इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) के अंतरिम मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) ज्योफ अलार्डिस ने कहा कि उनके पास इस साल के अंत में भारत में होने वाले टी20 विश्व कप के लिये ‘बैकअप’ प्लान है. लेकिन इस समय यहां कोविड-19 मामलों में बढ़ोतरी के बावजूद देश से इसे हटाने के किसी भी विचार के बारे में नहीं सोच रहे हैं.

 

टी20 विश्व कप का आयोजन भारत में अक्टूबर-नवंबर में किया जायेगा, लेकिन पिछले कुछ दिनों में देश में रोज एक लाख से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं. कोविड-19 मामलों के बढ़ने के बावजूद इंडियन प्रीमियर लीग दर्शकों के बिना बंद स्टेडियम में शुक्रवार से चेन्नई में शुरू होने वाली है.

अलार्डिस ने वर्चुअल मीडिया राउंड टेबल के दौरान कहा, ‘‘हम निश्चित रूप से टूर्नामेंट के लिये योजना के अनुसार ही आगे बढ़ रहे हैं. हमारे पास ‘दूसरी योजना’ है, लेकिन हमने अभी उन योजनाओं के बारे में विचार नहीं किया है. हम भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के साथ काम कर रहे हैं. हमारे पास ‘बैकअप’ योजना है जिसे जरूरत पड़ने पर ही शुरू किया जा सकता है.’’

आईसीसी के क्रिकेट महाप्रबंधक अलार्डिस को हाल ही में मनु साहनी को ‘छुट्टी’ पर भेजने के बाद ही अंतरिम सीईओ बनाया गया था. ऑस्ट्रेलिया के 53 वर्षीय अलार्डिस अपने देश के लिये घरेलू क्रिकेट खेल चुके हैं. उन्होंने कहा कि आईसीसी यह समझने के लिये अन्य देशों की खेल संस्थाओं से भी संपर्क में है कि वे कोविड काल में किस तरह से अपने टूर्नामेंट आयोजित कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि इस समय क्रिकेट कई देशों में खेला जा रहा है और हम उन सभी से सीख रहे हैं. हम अन्य खेल संस्थाओं से बात कर रहे हैं कि वे क्या कर रहे हैं. हम इस समय अच्छी स्थिति में हैं लेकिन यह भी मानते हैं कि दुनिया भर में चीजें तेजी से बदल रही हैं.

 

अलार्डिस ने कहा, ‘‘दो महीने के समय में विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप फाइनल का समय भी आ रहा है, लेकिन हम दोनों के लिये योजनानुसार ही चल रहे हैं.’’

संयुक्त अरब अमीरात ने पिछले साल इंडियन प्रीमियर लीग की मेजबानी की थी. वह भी इस बड़े अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट के आयोजन के लिये ‘बैकअप’ स्थल हो सकता है.

 

इस बातचीत के दौरान उनसे डीआरएस (अंपायर फैसला समीक्षा प्रणाली) के बारे में भी पूछा गया जिसमें अंपायरों के फैसले विवादास्पद हो रहे हैं और जिन्हें भारतीय कप्तान विराट कोहली ने इंग्लैंड के खिलाफ सीमित ओवर की सीरीज के दौरान भ्रामक बताया था.

 

अलार्डिस ने कहा कि हाल में हुई आईसीसी की बोर्ड बैठक के दौरान डीआरएस पर ‘अच्छी चर्चा’ हुई थी. उन्होंने कहा, ‘‘डीआरएस को स्पष्ट गलतियों को बदलने के लिये बनाया गया था. इसमें कोई भी बदलाव नहीं हुआ है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि जब आप बार बार ‘रीप्ले’ देखते हो तो आपकी सामान्य प्रतिक्रिया यही होती है कि हम क्या कर सकते हैं. इसमें साफ दिख रहा है कि गलती को बदल दिया जाये. हम ऐसी स्थिति में पहुंच चुके हैं जिसमें हम सही फैसले करने के लिये टेक्नालॉजी का इस्तेमाल कर रहे हैं. लेकिन ‘परफेक्शन’ के लिये प्रयास असंभव हो जाता है. हम अभी जहां पर हैं, वहां बहुत सहज हैं.’’