ऑक्सीजन की किल्लत से जूझ रहे लोगों के परिजन ऑक्सीजन सिलेंडर लूट रहे हैं. इस लूट की वजह से वार्डो में आक्सीजन की सप्लाई प्रभावित होने पर आई सी यू वार्ड में भर्ती मरीजों की जान पर आफत बन सकती है.

नई दिल्ली: दमोह में उपचुनाव की वोटिंग (Voting) के बाद तेजी से बड़े कोरोना (Corona) संक्रमण ने हालात भयावह कर दिए है और जो तश्वीरें सामने आ रही हैं वो हिला कर रख देने वाली हैं. बेकाबू हो रहे हालातों के बीच अब आम आदमी लूटमार पर आमादा है तो इन हालातों में डॉक्टर्स (Doctors) और पेरा मेडिकल स्टाफ (Medical) काम बंद करने की धमकी दे रहा है.

रात के वक्त ऑक्सीजन (Oxygen) स्टोर रूम से मरीजों के तीमारदार सिलेंडर लूट रहे हैं. ये आलम दमोह के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल का है जहां कोविड के मरीज लबालब भरे पड़े हैं और ऑक्सीजन की किल्लत से जूझ रहे लोगों के परिजन ऑक्सीजन सिलेंडर (Oxygen Cyilnder) लूट रहे हैं. बीते दो दिनों से जिला अस्पताल में सिलेंडर की लूट ऐसे ही हो रही है और इस लूट की वजह से वार्डो में आक्सीजन की सप्लाई प्रभावित होने पर आई सी यू वार्ड में भर्ती मरीजों की जान पर आफत बन सकती है.

मंगलवार की देर रात यहां ऐसी ही लूट मार हुई और तीमारदारों ने पैरा मेडिकल स्टाफ से बदसलूकी की और स्टाफ और डॉक्टर्स ने काम करना बंद कर दिया. जिसके बाद हालात बिगड़ रहे थे लेकिन नर्सिंग स्टाफ और डॉक्टर्स ने मानवीयता का परिचय देते हुए कुछ मिनिटों बाद फिर काम शुरू कर दिया. मौके पर अस्पताल की सिविल सर्जन और सी एम एच ओ को आना पड़ा.

सोमवार को भी इसी तरह की स्थिति बनी थी जिसके बाद सिविल सर्जन ने अस्पताल परिसर और खास तौर पर ऑक्सीजन स्टोर रूम में सुरक्षा की मांग की थी लेकिन एस पी ने ध्यान नही दिया जिसके बारे में सिविल सर्जन चीख चीख कर बताती रही. इन हालातों को देखकर अब सिविल सर्जन कह रही है कि ऐसा हुआ तो वो काम बंद कर देंगी  हालांकि जिले के कलेक्टर का कहना है कि घटना के बाद निर्णय लिया गया है कि ऐसे लोगों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज कराया जाएगा.