इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) को चाइनीज कंपनी वीवो की जगह फैंटेसी गेमिंग फर्म ड्रीम-11 के तौर पर नया टाइटल स्पॉन्सर मिल गया है। हालांकि, इसको लेकर भी विवाद छिड़ गया है, क्योंकि ड्रीम-11 में भी चाइनीज और हांगकांग की कंपनी का पैसा लगा है। ऐसे में भारतीय कारोबारी संगठन कन्फैडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने नाराजगी जाहिर की है।

कैट के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने ट्वीट किया, ‘‘आईपीएल के लिए वीवो कंपनी की जगह ड्रीम-11 के साथ स्पॉन्सरशिप का कॉन्ट्रैक्ट किया गया है, जबकि इस कंपनी में चीन की टेन्सेंट का पैसा लगा हुआ है। फिर भी भारत के साथ चीन के विवाद को नजरअंदाज करते हुए आईपीएल में पैसे के लिए चीनी निवेश वाली कंपनियों को चुना जा रहा है।’