कांग्रेस के सांसद रविंद्र बिट्टू ने दिल्ली पुलिस पर बड़ा आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस के जवानों ने कल (सोमवार) को पंजाब कांग्रेस के चार सांसदों के साथ मारपीट की. रविंद्र बिट्टू ने इस मामले को मंगलवार को लोकसभा में उठाया. उनके इस आरोप के बाद विपक्ष के सांसदों ने हंगामा किया, जिसके कारण स्पीकर को सदन की कार्यवाही को स्थगित करना पड़ा.

रविंद्र बिट्टू ने कहा कि पंजाब कांग्रेस के चार सांसद कल शाम विजय चौक पर किसानों के समर्थन में शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे थे. वे अपनी मांगों को लेकर राष्ट्रपति भवन जा रहे थे. लेकिन दिल्ली पुलिस के जवानों ने हमारे साथ बदसलूकी की. रविंद्र बिट्टू ने कहा कि पुलिस के जवानों ने हमें बुरी तरह मारा. कांग्रेस सांसद के इस आरोप पर स्पीकर ओम बिरला ने कहा कि मैं इसकी पूरी जानकारी लूंगा. हर सांसद की सुरक्षा की जिम्मेदारी हमारी है.

डीएमके सांसद ने भी लगाया आरोप
वहीं, डीएमके के एक सांसद ने भी गंभीर आरोप लगाए हैं. सांसद ने लोकसभा में कहा कि दो से तीन लोग खुद को इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) का कर्मचारी बताते हुए तमिलनाडु हाउस में मेरे कमरे में दाखिल हुए. उन्होंने मुझसे पूछताछ शुरू कर दी. उन्होंने सवाल किया कि हम लोकसभा में क्या मुद्दा उठाने वाले हैं. तमिलनाडु का क्या मुद्दा उठेगा. सांसद के इस आरोप पर स्पीकर ने कहा कि आप लिखित में मुझे शिकायत दीजिए. हम मामले की जांच करेंगे.

कांग्रेस सांसदों का प्रदर्शन
कृषि बिल को लेकर पंजाब से कांग्रेस के चार सांसदों ने सोमवार को संसद परिसर में प्रदर्शन किया. कृषि मंत्री जब लोकसभा में बयान दे रहे थे तब इन सांसदों ने पेपर फाड़कर विरोध जताया था. इस बिल को लेकर राज्यसभा में भी विपक्ष के सांसदो ने खूब हंगामा किया था.

बता दें कि राज्यसभा में विवादित बिल के पास होने के बाद विपक्षी सांसद खासतौर पर पंजाब से आने वाले सांसद विरोध कर रहे हैं. कृषि विधेयक को लेकर पंजाब और हरियाणा और कुछ अन्य राज्यों में भी किसान प्रदर्शन कर रहे हैं. किसान बिल को लेकर हंगामा करने पर राज्यसभा से आठ विपक्षी सांसदों को सोमवार को निलंबित कर दिया गया.