हरियाणा का एक शख्स का पुलिस की सामने कबूलनामा आया है. उसने पुलिस के सामने कहा कि वह दिल्ली अपने किसी परिचित के यहां आया था.

1 किसान नेताओं की हत्या की साजिश का दावा.
2 किसानों ने सिंघु बॉर्डर पर युवक को पकड़ा.
3 युवक ने पुलिस के सामने कबूलनामे में कही ये बात.

कृषि कानूनों को लेकर सरकार और किसानों के बीच जारी गतिरोध रुकने का नाम नहीं ले रहा है. जहां किसान 26 जनवरी यानी गणतंत्र दिवस (Republic Day 2021) के अवसर पर ट्रैक्टर रैली (Tractor Rally) निकालने और कृषि कानूनों को रद्द करने की बात पर किसान अड़े हुए हैं, वहीं सरकार अब तक किसानों की बात को मनाने में नाकाम रही है. इस बीच, दिल्ली बॉर्डर पर धरना दे रहे किसानों ने एक संदिग्ध युवक को पकड़ा. किसान नेताओं ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर शुक्रवार को सनसनीखेज खुलासा करते हुए है कहा कि आंदोलन के दौरान हिंसा भड़काने की साजिश की जा रही थी. पीसी में दावा किया गया कि किसान नेताओं की हत्या की भी योजना थी.

वही आपको बता दे की प्रदर्शकारी किसानों का दावा है कि उन्होंने एक लड़के को पकड़ा है, जिसका कहना है कि वह ट्रैक्टर रैली के दौरान हिंसा भड़काने और किसान नेताओं की हत्या करने के लिए तैयार की गई 10 सदस्यीय टीम का हिस्सा है. युवक ने एक पुलिस अधिकारी का नाम लिया था. किसानों ने संदिग्ध युवक को हरियाणा पुलिस के हवाले कर दिया है.

सिंघु बॉर्डर पर पकड़े गए लड़के ने राई के एसएचओ प्रदीप का नाम लिया था और कहा कि उसने किसानों की हत्या करने की प्लानिंग की है जबकि एसएचओ राई का नाम विवेक मलिक है. इस थाने में प्रदीप नाम का कोई और पुलिसवाला नहीं है. राई थाने में पिछले 7 महीने से तैनात एसएचओ विवेक मालिक का कहना है कि “मैं भी पीसी लाइव देख रहा था. मैं खुद हैरान हूं. की ये कैसे और क्या हो रहा है.

वही जानकारी की अनुसार हरियाणा के रहने वाले इस शख्स का अब पुलिस के सामने का कबूलनामा सामने आया है. उसने कहा कि वह दिल्ली अपने किसी परिचित के यहां आया था. 19 जनवरी की शाम को कुंडली इलाके में जा रहा था, मुझे पकड़ लिया गया. मुझे कैंप में ले जाकर पिटाई की गई. अगले दिन मुझसे कहा गया कि जो हम कहेंगे वो तुम्हें करना होगा.