केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने अपने संबद्ध स्कूलों को कक्षा 10वीं और कक्षा 12वीं की प्रैक्टिकल परीक्षा और अन्य एक्टिविटीज़ जैसे- प्रोजेक्ट और इंटरनल असेसमेंट का संचालन 1 मार्च से 11 जून तक करने के लिए कहा है. सीबीएसई ने कहा है कि अधिकांश राज्यों ने अपने स्कूलों को फिर से खोल दिया है. इससे छात्रों को थ्योरी और प्रैक्टिकल परीक्षााओं की तैयारी करने में मदद मिलेगी. CBSE कक्षा 10वीं और 12वीं के छात्रों के लिए थ्योरी परीक्षा 4 मई से शुरू होंगी.

सीबीएसई ने प्रैक्टिकल परीक्षाओं के लिए प्रयोगशालाओं को तैयार करने के लिए विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए हैं. प्रत्येक बैच की प्रैक्टिकल परीक्षा आयोजित होने के बाद स्कूलों को अपनी प्रयोगशालाओं को सैनिटाइज़ करना होगा.

छात्रों को COVID -19 नियमों का सख्ती से पालन करने के लिए कहा गया है, जैसे परीक्षा के दौरान फेस मास्क पहनना, दस्ताने पहनना, सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखना. छात्रों को अपना खुद का सैनिटाइज़र लाने की अनुमति दी गई है.

सीबीएसई ने सुझाव दिया है कि प्रैक्टिकल परीक्षा के लिए 25 छात्रों के एक बैच को दो सब-ग्रुप्स में बांटा जा सकता है, ताकि सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन किया जा सके.

स्कूलों से कहा गया है कि वे सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करने के लिए अपने छात्रों के लिए प्रवेश और बाहर निकलने के नियम बनाएं.