कोरोना के कहर और लगातार डिजिटल इंडिया को बढ़ावा दे रही मोदी सरकार ने एक और बड़ा कदम उठाया है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने केंद्रीय बजट मोबाइल ऐप लॉन्च कर दी है जिस पर बजट पेश होने के बाद बजट का पूरा लेखा-जोखा होगा।

कोरोना के कहर से वित्त मंत्रालय भी अछूता नहीं रहा है. कोरोना की वजह से ही इस साल बजट को प्रिंट नहीं किया जा रहा है. बजट के अलावा अलावा इकोनॉमिक सर्वे को भी प्रिंट नहीं किया जाएगा. इसका मतलब ये होगा कि बजट की हार्ड कॉपी सांसदों को नहीं दी जाएंगी. बजट और आर्थिक सर्वे की सॉफ्ट कॉपी ऐप से मिल सकेगी।

बजट सत्र का पहला हिस्सा 29 जनवरी से 15 फरवरी तक चलेगा और दूसरा हिस्सा 8 मार्च से 8 अप्रैल तक चलेगा. पहले चरण के पहले दिन ही इकोनॉमिक सर्वे को सदन में पेश कर दिया जाएगा. 1 फरवरी को संसद में डिजिटल बजट (Digital Budget) पेश किया जाएगा, जिस पर पूरे देश की निगाहें टिकी है।

केंद्रीय बजट मोबाइल ऐप के जरिए स्मार्ट फोन यूजर हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में बजट की जानकारी ले सकेंगे. आम लोगों तक बजट की पूरी जानकारी पहुंच सके, इस इरादे से केंद्रीय बजट मोबाइल ऐप को तैयार किया गया है. बजट की ये ऐप एंड्रॉयड और iOS दोनों पर उपलब्ध है. इस मोबाइल ऐप को नेशनल इन्फोर्मेटिक्स सेंटर ने आर्थिक मामलों के विभाग के नेतृत्व में बनाया है।

वित्त मंत्रालय के मुताबिक ऐप का यूजर फ्रेंडली इंटरफेस होगा और इसमें 14 अलग केंद्रीय बजट के दस्तावेजों का एक्सेस यूजर्स को मिलेगा जिसमें सालाना फाइनेंशियल स्टेटमेंट , डिमांड फॉर ग्रांट्स और फाइनेंस बिल शामिल है. वित्त मंत्रालय की तरफ से जो जानकारी अब तक सामने आई है, उसके मुताबिक एप के फीचर्स में डाउनलोड प्रिंट , सर्च , जूम इन और आउट, दोनों दिशाओं में स्क्रॉल करना, कंटेंट टेबल और एक्सटरनल लिंक शामिल हैं।