भारत में जारी किसान आंदोलन की चर्चा अब पडोसी मुल्को में भी हो रही है। ब्रिटैन के संसद में किसान आंदोलन का मुद्दा उठा तो प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन का जवाब सुनकर वहा बैठे सभी लोग अचंबित होगये। दरअसल लेबर पार्टी के ब्रिटिश सिख सांसद तनमनजीत सिंह धेसी ने प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन से भारत में किसानों द्वारा किए जा रहे विरोध प्रदर्शन पर संसद में सवाल पूछ लिया, तो जॉनसन को कुछ समझ नहीं आया…जॉनसन ने इस सवाल का जवाब देते हुए कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच किसी भी विवाद का हल द्विपक्षीय बातचीत से ही हो सकता है।
जॉनसन द्वारा दिए गए जवाब से संसद में बैठे सभी लोग चौंक गए। जॉनसन के जवाब से अचंभित धेसी ने जल्दी से जल्दी सोशल मीडिया का सहारा लिया और आश्चर्य जनक होकर ट्वीट किया की प्रधानमंत्री जॉनसन को यह नहीं पता कि वह किस विषय पर प्रतिक्रिया देने का काम कर रहे हैं।

धेसी ने भारत में किसानों का मुद्दा उठाते हुए संसद में पूछा कि क्या जॉनसन, ब्रिटेन में रहने वाले सिख समुदाय की चिंताओं से भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अवगत कराएंगे। इस सवाल के जवाब में जॉनसन ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच किसी भी विवाद का हल वहां की सरकारें खुद कर सकती हैं।

किसान आंदोलन का असर अब अमेरिका में भी देखने को मिला , कृषि कानून के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन के समर्थन में अमेरिका के कई शहरों में सैकड़ों सिख अमेरिकियों ने शांतिपूर्वक विरोध रैलियां निकली। सैन फ्रांसिस्को में प्रदर्शनकारियों ने भारतीय वाणिज्य दूतावास की ओर कार रैली निकाली और ‘बे ब्रिज’ पर यातायात बाधित कर दिया