बॉलीवुड एक्ट्रेस और चंडीगढ़ से बीजेपी की सांसद किरण खेर को ब्लड कैंसर हो गया है. इलाज के लिए उन्हें मुंबई के अस्पताल में दाखिल किया गया है. ब्लड कैंसर यानी एक ऐसी बीमारी जो हमारे ब्लड सेल्स के फंक्शन और प्रोडक्शन की प्रकिया को प्रभावित करता है. आइए आपको ब्लड कैंसर की वजह से और इसके शुरुआती लक्षणों के बारे में बताते हैं, जिन्हें अक्सर लोग नजरअंदाज कर देते हैं.

तीन प्रकार का होता है ब्लड कैंसर

ल्यूकेमिया– इसमें अस्थि मज्जा के अंदर असामान्य रक्त कोशिकाओं का तेजी से प्रोडक्शन होता है. ये असामान्य ब्लड सेल्स शरीर में रेड ब्लड सेल्स और प्लेटलेट्स को प्रभावित करते हैं.

लिम्फोमा– ब्लड कैंसर का दूसरा प्रकार होता है लिम्फोमा. इस प्रकार का ब्लड कैंसर हमारे लिम्फैटिक सिस्टम को खराब करता है, जो कि शरीर से अतिरिक्त फ्लूड को बाहर निकालने और इम्यून सिस्टम को प्रोड्यूस करने का काम करता है. लिम्फोसाइट्स एक तरह के व्हाइट सेल्स होते हैं जो शरीर में इंफेक्शन से लड़ते हैं.

मायलोमा– इस प्रकार का ब्लड कैंसर हमारे प्लाज्मा सेल्स पर बुरा असर डालता है. ये एक व्हाइट ब्लड सेल्स हैं जो शरीर में रोगों से लड़ने वाली एंटीबॉडी को प्रोड्यूस करने का काम करते हैं. मायलोमा प्लाज्मा सेल्स के प्रोडक्शन को प्रभावित करता है जिसके परिणामस्वरूप हमारा इम्यून सिस्टम कमजोर पड़ जाता है.

ब्लड कैंसर शरीर में खून, अस्थि मज्जा और लिम्फैटिक सिस्टम पर बुरा असर डालता है. ब्लड कैंसर में आमतौर पर कुछ कॉमन लक्षण देखे जा सकते हैं. शरीर में कमजोरी, थकावट या बेचैनी इसके लक्षण हो सकते हैं. इसके अलावा, सांस लेने में तकलीफ और मसूड़ों से खून आने की भी समस्या हो सकती है.

ब्लड कैंसर शरीर में खून, अस्थि मज्जा और लिम्फैटिक सिस्टम पर बुरा असर डालता है. ब्लड कैंसर में आमतौर पर कुछ कॉमन लक्षण देखे जा सकते हैं. शरीर में कमजोरी, थकावट या बेचैनी इसके लक्षण हो सकते हैं. इसके अलावा, सांस लेने में तकलीफ और मसूड़ों से खून आने की भी समस्या हो सकती है.

पेट पर गांठ भी ब्लड कैंसर के लक्षण हो सकता है. इसके अलावा, मरीज को कमर दर्द, पेट दर्द और हड्डियों में दर्द की शिकायत भी हो सकती है.

ब्लड कैंसर में आंखों में धुंधलापन या तेज दर्द की समस्या भी हो सकती है. स्किन पर काले धब्बे या लाल चकत्ते पड़ सकते हैं. यूरीनेशन में कठिनाई या कम पेशाब आना भी ब्लड कैंसर का वॉर्निंग साइन हो सकता है.

क्या है ब्लड कैंसर की वजह– मैक्स हेल्थ केयर की एक रिपोर्ट के मुताबिक, एक इंसान कई वजहों से ब्लड कैंसर की चपेट में आ सकता है. कई बार आनुवांशिक या एजिंग की समस्या के चलते ये बीमारी इंसान को घेर लेती है. इसके अलावा कमजोर इम्यून सिस्टम और विभिन्न प्रकार के इंफेक्शन की वजह से भी आपको ब्लड कैंसर हो सकता है.

क्या है इलाज– भारत में ब्लड कैंसर का इलाज कई अस्पतालों में उपलब्ध है. एक्सपर्ट्स के मुताबिक, बायोलॉजिकल थैरेपी के जरिए कैंसर को खत्म किया जा सकता है. कीमोथैरेपी और बोन मैरो ट्रांस्प्लांटेशन के अलावा रेडिएशन ऑन्कोलॉजिस्ट और हेयमैटो ऑन्कोलॉजिस्ट भी इसके इलाज में मददगार साबित हो सकते हैं.