नीतीश कुमार के कैबिनेट विस्तार को लेकर बीजेपी विधायक ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू की नाराजगी सामने आई है. ज्ञानेंद्र सिंह मीडिया से बात करते हुए कहा कि इस बार के मंत्रिमंडल में साफ सुथरी छवि वाले नेताओं को पीछे करके दागियों को मंत्री बनाया गया है. भाजपा विधायक ने चेताया है कि इस तरह के विस्तार से पार्टी की छवि को नुकसान पहुंचेगा. उनसे बात की हमारे संवाददाता मनीष कुमार ने.

विधायक ने कहा कैबिनेट विस्तार को लेकर मेरी सबसे बड़ी आपत्ति है कि इसमें जातीय संतुलन, क्षेत्रीय संतुलन और अनुभव संतुलन पर ध्यान नहीं दिया गया है. कहीं-कहीं से तीन-तीन मंत्री बनाए गए और कहीं से एक भी मंत्री नहीं बनाया गया. साफ सुथरी छवि वाले नेताओं को दरकिनार करके दागियों को मंत्री बनाया गया है.

विधायक ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू ने कहा कि लगता ही नहीं है कि कोई भारी-भरकम चेहरा मंत्रिमंडल में है. सबसे ज्यादा अपर कास्ट के लोग जीतकर आए हैं. लगभग 50 प्रतिशत उच्च जाति के लोग बीजेपी से जीतकर आए हैं, उन्हें उप मुख्यमंत्री नहीं बनाया गया जबकि दूसरों को बनाया गया.

यह पूछे जाने पर कि क्या कहीं आपको मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया गया इसलिए तो नाराजगी नहीं है, इस पर बीजेपी विधायक ने कहा, “मुझे जगह नहीं मिली इसकी चिंता नहीं है. हम मंत्री से अच्छी हैसियत में हैं. मंत्रियों की क्या हैसियत है इस सरकार में वो सबको पता है. चिंता यह है कि पार्टी कमजोर हो रही है. कुछ जातिवादी लोग हैं, जो पार्टी को कमजोर कर रहे हैं. पार्टी यादव और बनियों के कंट्रोल में चली गई है.”