बिहार चुनाव रुझान की झांकी लगातार गति में है। सुबह तक एग्जिट पोल से ये लग है था की सरकार RJD की बनेगी लेकिन वोट के गिनतियों ने बाज़ी पलट दी अब NDA आगे चल रही है महागठबंधन से ,काफी कांटे का टक्कर है दोनों सरकारों के बिच ,अंतर कम हैं इस लिए कुछ कह पाना मुश्किल है की सत्ता का सरताज कौन होगा ?

15 साल से बिहार सरकार चलाने वाले सुशासन बाबू यानि की नितीश कुमार की होगी या RJD के उत्तरधिकारी और RJD के तरफ से CM पद के दावेदार तेजस्वी यादव की।

या फिर आएगा कोई नया चेहरा बिहार का सत्ता सँभालने ? क्यों की अब तक के रुझानों से ये तय है की NDA सरकार में बीजेपी की बहुमत में बढ़ोतरी है JDU की तुलना में। तो इस आधार पर देखे ,चुकी बीजेपी के पास बहुमत है तो वो अपने पार्टी के तरफ से कोई चेहरा लाने का अधिकार रखती है बिहार की CM पद के लिए।

अब ये जानते है की मतगणना में इतना समय क्यों लग गया ?
कोरोना काल का असर पड़ा मतगणना पर भी, सोशल डिस्टन्सिंग के नॉर्म्स की वजह से बूथों की शंख्या बढ़गयी थी इसलिए समय लग रहा है मतगणना में।
क्यों की मुकाबला इस टक्कर पर है जहा दोनों तरफ से पार्टी के लोग उलझन में है की जश्न मनाएं या नहीं।

रुझान में आये बदलाव और बस चंद शंख्यावो का अंतर ,जटिल कर रहा है यह चुनावी महासंग्राम।