बिहार में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच कोचिंग सेंटर बंद कराए जाने से स्टूडेंज नाराज हैं. सोमवार को सासाराम में स्टूडेंट ने हंगामा किया और तोड़फोड़ के साथ आगजनी हुई.

बिहार में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच कोचिंग सेंटर बंद कराए जाने से स्टूडेंज नाराज हैं. सोमवार को सासाराम में स्टूडेंट ने हंगामा किया और तोड़फोड़ के साथ आगजनी हुई. इस मामले में पुलिस ने 9 छात्रों को गिरफ्तार किया. एसपी, छात्रों को समझाते रहे कि अपना आप भविष्य बर्बाद ना करें, अपने घर लौट जाएं, उपद्रव ना करे.

दरअसल, सासाराम के पोस्ट ऑफिस चौराहा और गौरक्षणी बाजार में उस वक्त आगजनी शुरू हो गई, जब सैकड़ों की संख्या में छात्रों ने हंगामा करना शुरू किया. इन लोगों ने कलेक्ट्रेट परिसर में घुसकर यात्री सेड को आग के हवाले कर दिया. साथ ही जमकर तोड़फोड़ की. इस हंगामे में नगर थानाअध्यक्ष नारायण सिंह सहित 3 पुलिसकर्मी घायल हो गए.

खैर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर स्थिति को संभाला. उपद्रवी छात्रों को नियंत्रण में करने के लिए आंसू गैस के गोले भी छोड़े गए. भारी संख्या में पुलिस बल मौके पर कैंप कर रही हैं. एक दर्जन से अधिक छात्रों को गिरफ्तार भी किया गया है. छात्रों का कहना है कि तमाम तरह की गतिविधियां संचालित है सिर्फ कोचिंग संस्थान और शिक्षण संस्थानों को बंद किया जा रहा है.

छात्रों के हंगामे से कई घंटे सासाराम का मुख्य चौराहा छावनी में तब्दील रहा. इस दौरान जमकर हंगामा हुआ. छात्रों के पथराव में पुलिस कर्मियों के अलावा कई पत्रकारों को भी चोटें आई हैं. मौके पर रोहतास के डीएम धर्मेंद्र कुमार और एसपी आशीष भारती पहुंचे और स्टूडेंट को समझाने की लाख कोशिश की गई है.

आपको बता दें कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए बिहार सरकार ने भी सभी स्कूल-कॉलेज एवं कोचिंग सेंटर्स को 11 अप्रैल तक के लिए बंद कर दिया है. शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने कहा कि राज्य के सभी शैक्षणिक संस्थानों को फिलहाल 5 से 11 अप्रैल तक के लिए बंद कर दिया गया है.