सुनकर आप चौंक गए होंगे की क्या कोई महिला इतने लम्बे समय तक कुत्तो की सेवा में लगी है . तो जांनाब चौंकिए मत ये सत्य घटना है.मै आपको उस महिला की दास्तान आपके सामने लेकर आया हूँ. जो कोई सचमुच ऐसे कोई कर सकता है.आगरा की महिला का नाम विनीत अरोड़ा. महिला 40 साल से कुत्तो को देखभाल करने में जुटी है .कुत्तो को रहने के लिए एक कैस्पर्स होम बनाया गया है .उस घर बेशहारा कुत्तो रहने खाने का उत्तम प्रबंध किया हुआ है .

विनीत अरोड़ा जिनका मै ज़िक्र इस कहानी में कर रहा हूँ उनका भी कुत्तो से जुड़ने से पहले का एक दर्द भरी कहानी है.पूछने पर बताती है की साल 2014 में उनके पालतू कुत्ते की मौत ट्रक के कुचलने से हो गयी थी. पालतू कुत्ते की मौत ने विनीता अरोड़ा को अंदर से झकझोर कर रख दिया था .उसके बाद उन्होंने ठान लिया की अब चाहे कोई भी कुत्ता हो सड़क का हो या घर की वो सबको प्यार करेंगी और सबके लिए रहने खाने का इंतज़ाम करेंगी .

2014 में अपना कुत्ता खोने के बाद 2015 से उन्होंने कैस्पर्स होम का निर्माण कराया और कुत्तो की देखभाल करने में जुट गयी .कैस्पर्स होम नाम देने के पीछे भी एक रोचक कहानी है.कहानी ये है की उनके कुत्ते का नाम कैस्पर्स ही था .कैस्पर्स होम के कर्मचारी भी उन कुत्तो को अपने बच्चे की तरह देखभाल करते है. इस काम में वॉलंटियर भी खूब जुड़े हैं. इसमें किसी कुत्ते के घायल होने पर उसका मौके पर जाकर उपचार किया जाता है.

विनता अरोड़ा बताती है की प्रतिदन मै कुत्तो के साथ काफी समय व्यतीत करता हूँ.उनका कहना है की वो 40 सालों से कुत्तो की सेवा में लगी है .वो कहती है ” “मैं 40 साल से ऐसा कर रही हूं. कुत्ते के बचाव दल के अधिकांश लोग जानवर का इलाज करते हैं और उन्हें छोड़ देते हैं, लेकिन मैं उन्हें कैस्पर्स होम में रखती हं. कभी-कभी मुझे कुत्तों के बचाव में जाने पर धमकियां मिलती हैं.” कभी कभी उनको कुत्तो को बचाने के लिए धमकियाँ भी मिलती है .

बहुत कम लोग ही इन्हें गोद लेते है, ऐसे में विनीता अरोड़ा और उनके सहयोगी लोगों को जागरूक करने को एडॉप्शन कार्यक्रम चलाते हैं. लोगों को ऐसे कुत्ते गोद लेकर उन्हें नई जिंदगी देने को प्रेरित करते हैं. लेकिन, इसके पीछे शर्त होती है कि जो इन्हें एडॉप्ट करता है, उसके घर समय-समय पर वॉलंटियर ये देखने जाते हैं कि कुत्ते को दिक्कत तो नहीं है, या छोड़ तो नहीं दिया गया. साफ बता दिया जाता है कि उसे तकलीफ न हो, चाहे तो वापस कैस्पर्स होम छोड़ दें. अगर कुत्ता गुम हो गया तो जुर्माना भी देना पड़ता है.