बेअंत सिंह हत्याकांड मामले में दोषी बलवंत सिंह राजोआना की मौत की सजा को उम्रकैद में बदलने की याचिका पर शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई है, जिसके बाद कोर्ट ने राजोआना की दया याचिका पर फैसला करने के लिए छह हफ्ते का वक्त दिया है. सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने इस मुद्दे को छह हफ्ते तक टालने का आग्रह किया था. एसजी ने कहा कि राजोआना पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह का हत्यारा है और खालिस्तान के मुद्दे पर दोषी ने उनकी हत्या की थी.

केंद्र सरकार का पक्ष रख रहे मेहता ने बताया कि ‘प्रक्रिया शुरू हो चुकी है. राष्ट्रपति को इस याचिका पर फैसला लेना है. उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति कब तक फैसला लेंगे इस पर कुछ वादा नहीं कर सकते. मामले को 6 हफ्ते टाला जाए क्योंकि अभी राष्ट्रपति के फैसले का इंतजार करना चाहिए.’ प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे ने कहा कि सरकार अपने हिसाब से वक्त बता सकती है लेकिन राष्ट्रपति के फैसला लेने के लिए समय दिया जाना चाहिए.

पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को आखिरी मौका दिया था कि वो दो हफ्ते में राजोआना की दया याचिका पर फैसला करे. इससे पहले सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि केंद्र सरकार बलवंत सिंह राजोआना की अर्जी पर 26 जनवरी तक फैसला करे जिसमें उसने सजा कम करने का अनुरोध किया है.