वैसे तो नाबालिग लड़की से शादी से करना कानूनन अपराध है मगर मुरैना जिले से एक चौंकाने वाली खबर सामने आयी है .मुरैना जिले के पोरसा थाना क्षेत्रान्तर्गत एक गांव में दलित नाबालिग बालिका का विवाह होने की सूचना मिलते ही सक्रिय हुये पुलिस प्रशासन व महिला बाल विकास विभाग ने रेस्क्यू किया.

पूरी खबर की बात करे तो पुलिस ने नाबालिग बालिका का विवाह रुकवाने के साथ-साथ अपहृत बालिका को भी बरामद कर लिया है. इस घटना में सहयोग करने वाली महिला जो दूल्हे की रिश्तेदार है, को गिरफ्तार किया गया है जबकि दूल्हा फरार हो गया है.परिजनों को समझा कर बालिका को थाने लाया गया. हालांकि इस जद्दोजहद के बीच दूल्हे ने नाबालिग दुल्‍हन की मांग में सिंदूर भर दिया. पुलिस व प्रशासन ने चिकित्सकीय परीक्षण कराकर बालिका को मुरैना के वन-स्टॉप सेन्टर में दाखिल करा दिया .

बता दें शादी रुकवाने के लिए अपनी महिला रिश्तेदार के साथ लड़की के घर पहुंचा था और नाबालिग बालिका की छोटी बहन को शादी करने के उद्देश्य से जबरन ले गया. इसकी जानकारी मिलते ही पुलिस व प्रशासन ने तलाशी अभियान चलाकर अपहृत बालिका को बरामद कर लिया. उसके बाद पुलिस ने घटना में सहयोग करने वाली महिला रिश्तेदार को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है .पुलिस ने नाबालिग बालिका के पिता की शिकायत पर से अपहरण तथा बाल विवाह अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर फरार दूल्हे की तलाश शुरू कर दी है.