कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खडगे ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को राज्‍यसभा के अपने भाषण में आधी-अधूरी जानकारी देकर सदन को गुमराह किया. पीएम मोदी के भाषण पर NDTV से बात करते हुए खडगे ने कहा कि प्रधानमंत्री ने कृषि कानूनों और सुधारों के संबंध में पूर्व पीएम मनमोहन सिंह को कोट किया लेकिन मनमोहन ने किस संदर्भ में यह बात कही थी, यह नहीं बताया. खडगे ने सवाल किया कि बड़ी कंपनियों को फॉर्मिंग कॉन्ट्रैक्ट देने की बात मनमोहन सिंह ने कब कही?
उन्‍होंने कहा कि पीएम मोदी ने आउट ऑफ कांटेक्ट मनमोहन सिंह कोट किया है. खडगे ने इसके साथ ही प्रधानमंत्री मोदी द्वारा पूर्व कृषि मंत्री शरद पवार के बयान को भी संदर्भ से हटकर पेश किया.

कांग्रेस नेता खडगे के अनुसार, प्रधानमंत्री ने कहा कि शरद पवार ने यू-टर्न किया. उन्हें भी पीएम ने संदर्भ से हटकर कोट किया है. यहसही नहीं है. कांग्रेस नेता ने कहा कि आज हमें और किसानों को उम्मीद थी कि प्रधानमंत्री तीनों काले कानून वापस लेंगे और सभी संबंधित पक्षों से सलाह-मशविरा करके नए बिल आएंगे लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया. खडगे के अनुसार, प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस संकट पर गलत तथ्य पेश किए. मैंने संसद में यह सवाल पूछा था कि क्या भारत, एशिया के मुख्‍य देशों में पर मिलियन डेथ के मामले में सबसे ज्यादा हैं? मुझे संसद में जवाब मिला था हां, यह सही है प्रधानमंत्री ने करोना पर गलत तथ्य पेश किए.

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी ने सोमवार को राज्यसभा में अपनी सरकार के नए कृषि सुधार कानूनों का बचाव किया और कहा कि इन कानूनों को लागू किए जाने का यह सही समय है. पीएम ने इस दौरान मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस पर कृषि कानूनों को लेकर दोहरा रवैया अपनाने का आरोप लगाते हुए पूर्व प्रधानमंत्री और कांग्रेस नेता मनमोहन सिंह के एक कथन का जिक्र भी किया. उन्होंने पूर्व पीम मनमोहन की एक पुरानी बात का जिक्र करते हुए कहा कि ‘विपक्ष कम से उन्हें नहीं तो मनमोहन सिंह जी को सुनेगा.’ उन्होंने कहा कि ‘हमारा इरादा उन सभी बाधाओं को हटाने का है, जो भारत को एक बड़ा एकीकृत बाजार बनने से रोकती हैं. मनमोहन जी ने किसानों को एक मुक्त बाजार और भारत को एक बड़ा कॉमन मार्केट बनाने की बात की थी.’