मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पर्यावरण को समृद्ध बनाए रखने के लिए हर रोज एक पौधा रोपने की मुहिम चला रखी है। चैहान का पांच मार्च को जन्मदिन है, इससे पहले उन्होंने प्रदेशवासियों का आह्वान किया है कि वे उनके (चौहान) जन्मदिन पर उत्सव नहीं मनाएं बल्कि पौधा लगाएं। मुाख्यमंत्री चौहान ने अपने संदेश मे पौधा रोपे जाने का आह्वान करते हुए कहा है कि पांच मार्च को मेरा जन्म-दिन है। हमेशा संकल्प यही रहता है कि जीवन का हर क्षण सार्थक हो, अपने लिए नहीं, हम अपनों के काम आये।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सरकार के माध्यम से हम सार्थक काम कर ही रहे हैं, लेकिन मन में यह भाव भी आया कि जन्म-दिन के अवसर को भी उद्देश्यपूर्ण बनाया जाए। धरती हमारी मां है। मां हमें सब कुछ देती है, लेकिन हमें भी मां को कुछ देना है। इसी उद्देश्य से मैंने एक साल तक रोज एक पौधा लगाने का संकल्प लिया है।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पेड़ों की अंधाधुंध कटाई के कारण पर्यावरण बिगड़ रहा है। धरती की सतह का तापमान लगातार बढ़ रहा है और ऐसा अनुमान है कि वर्ष 2050 तक ये दो डिग्री सेल्सियस बढ़ जाएगा। तब स्थितियां भविष्य के लिए ऐसी बनेंगी कि धरती पर मानव और जीव-जंतुओं का अस्तित्व ही एक समय संकट में पड़ जायेगा। हम आने वाले इस संकट को पहचानते हुए आज से ही पर्यावरण बचाने का सार्थक प्रयास करें। पेड़ों से धरती मां का श्रृंगार करना पर्यावरण बचाने का प्रभावी माध्यम है। मेरी सभी से प्रार्थना है कि आप किसी भी शुभ अवसर पर पेड़ लगाएं।

राज्य में बढ़ते वन क्षेत्र का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रसन्नता की बात है कि मध्यप्रदेश में वन क्षेत्र लगातार बढ़ा है। वन क्षेत्र को और अधिक बढ़ाने का प्रयास करें। हम पेड़ लगाएंगे तो अपने लिए ही नहीं, बल्कि प्रदेश, देश और दुनिया के लिए भी लगाएंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मेरी प्रार्थना है कि मेरे इस जन्म-दिन की खुशी फूलमाला और बुके से स्वागत करके न मनाएं, इसके बजाय एक पेड़ लगाएं। जरूरी नहीं है कि मेरे जन्म-दिन पर ही लगाएं। आप अपने जीवन के किसी भी शुभ अवसर पर पेड़ लगाएं। पेड़ है तो ऑक्सीजन है, ऑक्सीजन है तो जीवन है। इसलिए वृक्ष भी जीवन है। मैं अपना जन्म-दिन पेड़ लगाकर ही मनाऊंगा।