शिक्षा विभाग की ओर से जहां प्रवेशाेत्सव की प्राेसेस के साथ ऑनलाइन स्माइल प्राेग्राम के तहत स्टडी करवाई जा रही हैं। वहीं, मुकंदरा रिजर्व के गांवाें की ऐसी हालत है कि वहां गिने चुने अभिभावकाें के पास एंड्राइड माेबाइल है। इनमें भी वहां माेबाइल में नेटवर्क नहीं आने से परेशानियां हाे रही हैं। स्थिति यह है कि शिक्षकाें काे हर दिन स्माइल प्राेग्राम के तहत बच्चाें काे ऑनलाइन पढ़ाई करवाने शिक्षा विभाग के आदेश हैं। ऐसे में यहां शिक्षक मशक्कत कर बच्चाें काे पढ़ाने में जुटे हैं।

ऐसी स्थिति रिजर्व के मशालपुरा और गिरधरपुरा में है। पूर्व सरपंच नंदलाल मेघवाल ने बताया कि रिजर्व के गांवाें में नेटवर्क की समस्या से स्टूडेंट्स काे परेशानी हाे रही हैं। फिर भी बच्चे अपने स्तर से पढ़ाई के लिए मशक्कत कर रहे हैं। मशालपुरा के शिक्षक किशाेर कुमार व्यास बताते हैं कि स्माइल प्राेग्राम के तहत स्टडी मटेरियल वाले वीडियाे भी बच्चाें की हैल्प कर कक्षावार बताते हैं।

गिरधरपुरा के बच्चाें काे ऑनलाइन पढ़ाई में समस्या है। यहां भी गिने-चुने अभिभावकाें के पास माेबाइल है। यहां कुल 125 बच्चाें का नामांकन है। इनमें से 20 अभिभावकाें के पास स्मार्टफाेन है। यहां भी जंगल का गांव हाेने से नेटवर्क नहीं आता। ऐसे में खुद शिक्षक बच्चाें के लिए मशक्कत करते रहते हैं। शिक्षक मूलचंद गुर्जर बताते हैं कि यहां गांव में चुनिंदा जगह पर थाेड़ा बहुत नेटवर्क आता है। जहां स्टूडेंट्स नेटवर्क मिलने का इंतजार करते हैं।