महाराष्ट्र में लेडी सिंघम के नाम से मशहूर मेलघाट टाइगर रिजर्व में तैनात महिला रेंज वन अधिकारी दीपाली चव्हाण मोहिते (28 साल) ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। दीपाली ने अपने 4 पन्नों के सुसाइड नोट में भारतीय वन सेवा के अपने वरिष्ठ अधिकारी पर सेक्सुअल हैरेसमेंट और टॉर्चर का आरोप लगाया है।

बता दें कि दीपाली मोहिते ने बृहस्पतिवार की देर रात अपनी सरकारी रिवाल्वर से टाइगर रिजर्व के पास हरिसल गांव में अपने सरकारी आवास में खुद को गोली मार कर आत्महत्या कर ली। घटना के बाद से वन महकमे में शोक की लहर दौड़ गई। वन माफियाओं के खिलाफ अपनी निडरता के लिए लेडी सिंघम के नाम से मशहूर दीपाली के पति राजेश मोहिते चिखलधारा में एक ट्रेजरी अधिकारी हैं।

सुसाइड नोट पढ़ने के बाद दीपाली के परिवार ने सुसाइड नोट में नामजद आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग करते हुए दीपाली का अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया है। वहीं पुलिस ने डिप्टी कंजर्वेटर ऑफ फॉरेस्ट शिवकुमार को नागपुर रेलवे स्टेशन से हिरासत में ले लिया गया. उस वक्त वे बेंगलुरु जाने के लिए एक ट्रेन का इंतजार कर रहे थे।

दीपाली ने अपने डायरेक्टर, एमएस रेड्डी से शिव कुमार की शिकायत की थी लेकिन उन्होंने उसकी शिकायत को नजरअंदाज कर दिया था। जिसके बाद दीपाली ने शिवकुमार की शराब पीने की आदतों के बारे में बताते हुए कहा था कि शिवकुमार उसके साथ सार्वजनिक और निजी तौर पर अभद्र व्यवहार करता था। फिजिकल होने के संकेत देता था। दीपाली ने इसका विरोध किया लेकिन उसे इसकी कीमत कठिन वर्क शेड्यूल, उत्पीड़न और एक महीने की सैलरी को होल्ड करके चुकानी पड़ी। जिसके बाद दीपाली ने अपनी जीवनलीला समाप्त करने का फैसला ले लिया।