कोरोना कहर और महंगाई के दौर में कंस्ट्रक्शन का काम और महंगा होने वाला है क्योंकि स्टील की कीमत बहुत ज्यादा वृद्धि की गई है. कई घरेलू कंपनियों ने स्टील की कीमत 4900 रुपये प्रति टन तक बढ़ा दी है. Hot Rolled Coil (HRC) की कीमत 4000 रुपये प्रति टन बढ़ाई गई है जबकि Cold Rolled Coil (CRC) की कीमत 4900 रुपये प्रति टन बढ़ाई गई है. कीमत बढ़ाए जाने के बाद HRC की कीमत अब 70000 से 71 हजार रुपये प्रति टन हो गई है जबकि CRC की कीमत 83 से 84 हजार प्रति टन हो गई है.

कंज्यूमर गुड्स और कार की कीमतें भी बढ़ेंगी 

HRC और CRC फ्लैट स्टील है जिसका इस्तेमाल ऑटो, एप्लिएंसेज और कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री में होता है. इसका मतलब यह हुआ है कि स्टील का रेट बढ़ने से गाड़ियों और कंज्यूमर गुड्स की कीमत में बढ़ोतरी होगी जबकि कंस्ट्रक्शन का खर्च भी बढ़ेगा. SAIL, JSW Steel, Tata Steel, JSPL और AMNS भारत की प्रमुख स्टील निर्माता कंपनी है. भारत में स्टील उत्पादन का कुल 55 प्रतिशत उत्पादन इन्हीं कंपनियों में होता है. 1

लौह अयस्क के दाम बढ़े

मिंट में छपी खबर के मुताबिक जब सेल  SAIL के अधिकारियों से कीमत के बारे में पूछा गया तब उन्होंने किसी भी तरह की टिप्पणी से इंकार किया. सिर्फ इतना कहा कि यह बाजार आधारित कीमत है. दूसरी JSW  स्टील के अधिकारियों ने बताया कि कच्चे माल की कीमत में वृद्धि के कारण वैश्विक बाजार में स्टील की कीमत बढ़ी है. इसलिए हमें भी कीमत बढ़ानी पड़ी. उन्होंने बताया कि भारत में लौह अयस्क के दाम 4000 प्रति टन तक हो गए हैं. इन सब कारणों से स्टील की कीमत बढ़ गई है. उन्होंने बताया कि स्टील की घरेलू कीमत अंतरराष्ट्रीय कीमत से 20-25 प्रतिशत कम है. कमजोर घरेलू मांग के कारण ज्यादातर स्टील कंपनियों ने निर्यात बढ़ाया है.