वाराणसी, 18 मार्च | छात्रों के विरोध के बाद, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) प्रशासन ने एक बयान जारी कर कहा है कि “नीता अंबानी की किसी भी संकाय, विभाग या केंद्र में विजिटिंग प्रोफेसर के रूप में नियुक्ति पर कोई निर्णय नहीं लिया गया है।” बीएचयू के प्रवक्ता ने कहा कि किसी भी विजिटिंग प्रोफेसर की नियुक्ति के लिए एकेडमिक काउंसिल की मंजूरी चाहिए। उन्होंने कहा कि अंबानी की नियुक्ति का कोई प्रस्ताव अकादमिक परिषद को नहीं भेजा गया है।

सामाजिक विज्ञान संकाय के डीन प्रो. कौशल किशोर मिश्रा ने हालांकि स्वीकार किया कि उन्होंने अपनी व्यक्तिगत क्षमता में महिला अध्ययन केंद्र में अतिथि व्याख्यान देने के लिए अंबानी को निमंत्रण भेजा था।

नीता अंबानी को एक विजिटिंग प्रोफेसर के रूप में नियुक्त किए जाने की खबरों के कारण मंगलवार को छात्रों ने विरोध प्रदर्शन किया था।