आपको बता दे की भारत में 16 जनवरी से कोरोना का टीकाकरण लगाया जा रहा है. जिस टीकाकरण पर गर्व करना चाहिए उसी टीकाकरण पर भारत में राजनीति हो रही है, और इस राजनीति में अफवाह का भी अच्छा खासा रोल है शायद यही वजह है कि जितना सोचा गया था, पहले दिन उससे आधा टीकाकरण हुआ. अब इस कोरोना टीके पर मचा है सियासी तांडव. इस कोरोना टिकाकरन के ऊपर भी लोग कई सवाल उठाना शुरू कर दिए है. देश में पहले दिन तीन लाख लोगों को टीका लगना था मगर टीका लगा सिर्फ 1 लाख 91 हजार लोगों को टीका लगा. प्रधानमंत्री ने कहा कि वैक्सीन सुरक्षित है मगर विपक्ष को इस पर भरोसा नहीं है, अव्वल विपक्ष के मुताबिक अगर देश के मुखिया,वैक्सीन का पहला टीका लगाते तो देश भरोसा कर सकता है.