गोरखपुर में एक नाबालिग लड़की के साथ दुष्कर्म के बाद पीड़िता की प्राथमिकी दर्ज नहीं करने पर दो पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। लड़की का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरस हुआ, जिसके बाद वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने इस मामले को अपने संज्ञान में लेते हुए 2 पुलिसकर्मी को निलंबित कर दिया।

खबरों के अनुसार, यह घटना मंगलवार रात को हुई जब एक ऑर्केस्ट्रा समूह में डांसर के रूप में काम करने वाली पीड़िता एक कार्यक्रम के बाद घर लौट रही थी।
उसे मोटरबाइक पर लड़कों के एक समूह ने अगवा किया, जिसके बाद उसे एक घर में खींच ले गए और वहां बारी बारी से सबने दुष्कर्म किया।
आरोपी से छुटकारा मिलने के बाद लड़की बाहर आई और चिल्लाने लगी, जिसके बाद आस पास के लोग मौके पर एकत्र हो गए।

स्थानीय लोग उसे पुलिस स्टेशन ले गए, लेकिन जब पुलिस ने उसकी एफआईआर दर्ज करने से इनकार कर दिया, तो उनमें से एक ने वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड कर दिया।
इसके बाद, एसएसपी ने आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 346, 76 और पास्को एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज की।
चौकी प्रभारी और एक सिपाही को निलंबित कर दिया गया है। लड़की को मेडिकल परीक्षण के लिए भेजा गया है।
पुलिस प्रवक्ता ने कहा कि आगे की जांच चल रही है और जल्द से जल्द आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।