1. पावर मिनिस्‍ट्री की एक स्‍टडी कहती है कि ‘सुपर फैन्‍स’ का इस्‍तेमाल कर साल भर में 192 यूनिट बिजली बचाई जा सकती है। ऐसे हर पंखे की अनुमानित लागत 1,500 रुपये आंकी गई है।संजय दत्‍ता, नई दिल्‍ली
    अगर आप सिर्फ अपने घर के पंखे बदल दें तो सालभर में करीब 4,000 रुपये बचा सकते हैं। चौंकिए मत, इसके लिए ज्‍यादा जद्दोजहद भी नहीं करनी पड़ेगी। पावर मिनिस्‍ट्री के तहत आने वाली एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसिज लिमिटेड (EESL) की तरफ से आपको ऐसे पंखे किफायती दरों पर मिल सकते हैं। EESL के अनुसार, अगर औसतन दो बेडरूम वाले घर में चार नॉर्मल पंखों को सुपर-एफिशिएंट पंखों से बदल दिया जाए तो सालाना चार हजार रुपये तक की बचत हो सकती है।

    हर साल करोड़ों रुपये की बचत संभव
    यह स्‍टडी दिल्‍ली के बाजारों पर आधारित है। इसके मुताबिक, हर सुपर फैन सालभर में 192 यूनिट कम खपत करेगा जिससे 960 रुपये की बचत होगी। EESL ने साल के 8 महीने तक रोज 16 घंटे पंखे चलने और 5 रुपये प्रति यूनिट बिजली के आधार पर यह आंकड़ा सामने रखा है। अगर ऐसे 10 लाख पंखे हों तो हर साल 192 मिलियन यूनिट बिजली बच सकती है और 96 करोड़ रुपये बचाए जा सकते हैं।क्‍या होते हैं सुपर फैन्‍स?
    सुपर फैन्‍स 25 वॉट के वो पंखे होते हैं जिन्‍हें ब्‍यूरो ऑफ एनर्जी एफिशिएंसी (BEE) बाजार में बिकने वाले सामान्‍य 75-80 वॉट के पंखों के बराबर रेट करता है। BEE के स्‍टार रेटिंग सिस्‍टम में ‘एफिशिएंट’ टैग वाले पंखे भी होते हैं लेकिन सुपर फैन्‍स बेहतर माने जाते हैं क्‍योंकि उनसे ज्‍यादा बिजली बचाई जा सकती है। हालांकि लोग घरों में यह पंखे नहीं लगवाते हैं। रिसर्च पेपर के मुताबिक, भारत में जो सीलिंग फैन्‍स बिकते हैं, उनकी एफिशिएंसी काफी कम है।