सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि सरकार दिल्ली तथा आस-पास के इलाक़ों में अच्छी सड़कें बनाकर यहां के प्रदूषण को कम करने के साथ ही बेहतर सड़क नेटवर्क के ज़रिए ऐसी तैयारी में है कि दिल्ली से देहरादून, हरिद्वार और जयपुर जैसे शहरों तक दो से ढाई घंटे में पहुंचा जा सके। श्री गडकरी ने लोकसभा में गुरुवार को एक पूरक प्रश्न के जवाब में कहा कि सरकार डीजल और पेट्रोल का विकल्प तलाशने के लिए तेजी से काम कर रही है और उन्हें उम्मीद है कि अगले दो साल में इलेक्ट्रिक बैटरी से दो पहिया, तीन पहिया, छोटे चार पहिये वाहनों के साथ ही बसें भी चलाई जा सकेंगी और पेट्रोल डीजल का विकल्प देश में ही उपलब्ध हो जाएगा। उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रिक बैटरी से वाहनों को चलाने का जो वादा किया जा रहा है वह जल्दी पूरा होगा। उनका कहना था कि उन्होंने इसी सदन में बैटरी से रिक्शा चलाने की बात की थी और आज देश में इलेक्ट्रिक बैटरी से कारण चलने वाले रिक्शा की भरमार है और हाथ से रिक्शा चलाने वाले एक करोड़ से ज्यादा लोगों को बैटरी रिक्शा चलाने का विकल्प हासिल हुआ है। दिल्ली एनसीआर में डीजल से चलने वाली पुरानी बसों को कारण होने वाले प्रदूषण से संबंधित सवाल पर उन्होंने कहा कि सरकार गरीबों का ध्यान रखते हुए काम करेगी इसलिए इन बस मालिकों से डीजल की जगह सीएनजी के इस्तेमाल का आग्रह करेगी ताकि पुरानी बसों को कुछ और देर तक चलाया जा सके।