सुशांत सिंह राजपूत केस में कई सवाल खड़े हो रहे हैं। कुछ लोगों ने सुशांत के पोस्टमॉर्टम को लेकर भी सवाल खड़े किए हैं कि एक्टर का पोस्टमॉर्टम इतनी जल्दी क्यों किया गया। बता दें कि सुशांत की मौत 14 जून को हुई थी और इसी दिन उनका पोस्टमॉर्टम हो गया था। अब इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक पोस्टमॉर्टम करने वाले डॉक्टर सचिन सोनवणे का कहना है कि सुशांत की बहन और उनके जीजा, हरियाणा पुलिस के एसपी, ओपी सिंह के अनुरोध पर पोस्टमॉर्टम किया गया था।

रिपोर्ट के मुताबिक डॉक्टर का कहना है कि पोस्टमॉर्टम 90 मिनट में किया गया था। पोस्टमॉर्टम रात में क्यों किया गया इस पर डॉक्टर ने कहा कि मुंबई में ऐसा कोई नियम नहीं है और रात में भी पोस्टमॉर्टम हुए हैं। बता दें सीबीआई ने इस केस की जांच शुरू कर दी है। सुशांत के हाउस मैनेजर सैमुअल मिरांडा से भी सीबीआई की पूछताछ शुरू हो गई है। सीबीआई ने डीसीपी अभिषेक त्रिमुखे से भी मुलाकात की। सीबीआई की एक टीम ने बांद्रा पुलिस थाने पहुंचकर केस डायरी और दस्तावेज ले लिए हैं। सुशांत का फोन भी अब सीबीआई के पास है। एक टीम सुशांत के घर पर डमी टेस्ट की तैयारी कर रही है। घर के कॉन्ट्रैक्टर से संपर्क कर उसे चाबी लेकर पहुंचने को कहा गया है।

डीसीपी समेत अन्य से हो सकती है पूछताछ

सीबीआई की कोशिश यही है कि वह सबसे पहले उन गवाहों से पूछताछ करे, जो मौका-ए-वारदात पर मौजूद थे। इसके बाद सुशांत के स्टाफ केशव, उनके दोस्तो महेश शेट्टी और सिद्धार्थ पीठानी से भी पूछताछ होगी। सीबीआई की टीम डीसीपी परमजीत दहिया से भी पूछताछ कर सकती है। सुशांत के जीजा ने कथित तौर पर डीसीपी दहिया को मेसेज किया था। उन्होंने बताया था कि सुशांत की जान को खतरा है।