पटना। बिहार के पुलिस महानिदेशक के पद से त्यागपत्र दे चुके गुप्तेश्वर पांडे ने बुधवार को बताया कि उनके त्यागपत्र की वजह अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत का केस नहीं है। गुप्तेश्वर पांडे ने बताया कि बहुत सारे लोग उनके VRS को सुशांत केस से जोड़कर देख रहे हैं लेकिन VRS का सुशांत सिंह राजपूत के केस से कोई लेना देना नहीं है। बुधवार सुबह गुप्तेश्वर पांडे ने पटना में एक प्रेस वार्ता में यह बयान दिया। गुप्तेश्वर पांडे ने VRS के लिए आवेदन किया था और मंगलवार रात को राज्यपाल ने उनका आवेदन स्वीकार कर लिया है।

गुप्तेश्वर पांडे की जगह संजीव कुमार सिंघल को DGP का अतीरिक्त कार्यभार सौंपा गया है और इस सिलसिले में राज्य सरकार की तरफ से मंगलवार शाम को ही अधिसूचना जारी कर दी गई है।

बुधवार सुबह पटना में प्रेस वार्ता के दौरान सुशांत मामले पर महाराष्ट्र और बिहार पुलिस में हुए टकराव को लेकर उन्होंने कहा कि बिहार के पुलिस अधिकारियों का अपमान किया गया और उन्हें क्वॉरंटीन किया गया जिसे देखते हुए और बिहार की अस्मिता तथा सुशांत को न्याय दिलाने के लिए उन्होंने आवाज उठाई थी।

गुप्तेश्वर पांडे ने बुधवार सुबह बताया कि जो लोग उनके VRS को राजनीति से जोड़कर देख रहे हैं वे उनके बारे में नहीं जानते हैं। ऐसा कहा जा रहा है कि आगामी विधानसभा चुनावों में गुप्तेश्वर पांडे चुनाव लड़ सकते हैं और उसी को देखते हुए उन्होंने VRS लिया है। इसपर गुप्तेश्वर पांडे ने कहा कि उनके परिवार में 4 पीढ़ी से कोई पढ़ा नहीं है और वे सेल्फ मेड आदमी हैं तथा खुद संघर्ष करके आगे बढ़े हैं।

गुप्तेश्वर पांडे इससे पहले 2009 में भी VRS ले चुके थे और कहा जाता है कि उस समय वे लोकसभा चुनाव लड़ने का मन बना चुके थे लेकिन बाद में उन्हें टिकट नहीं मिला था और उन्हें वापस पुलिस सेवा में आना पड़ा था।