चाहे कितनी ही वर्कआउट कर लें, लेकिन वजन कम करने के लिए 80 प्रतिशत हिस्सा डाइट और 20 प्रतिशत हिस्सा एक्सरसाइज से ही पूरा किया जा सकता है। फिटनेस के इसी फॉर्म्यूले से ही आप अपना फिटनेस गोल सेट कर सकते हैं। डाइट में आप क्या ले रहे हैं और किस पोर्शन में ले रहे हैं…ये सारी चीज़ें मायने रखती हैं। वहीं आप लगातार एक घंटा वर्कआउट कर रहे हैं और सब कुछ खा रहे हैं, इससे वेइंग मशीन पर आपको वजन कम होता नहीं दिखेगा। रेशियो 80:20 के प्रपोर्शन में चीज़ों को दिमाग में रखते हुए, जो लोग वजन घटाना चाहते हैं, उनके लिए ही क्लीन ईटिंग डाइट प्लैन की गई है। इसे फॉलो कर आप आसानी से अपना वजन कम कर सकते हैं। क्लीन डाइट के बारे में जानकारी दे रही हैं कॉस्मेटिक सर्जन एंटी-एजिंग, ब्यूटी एंड वेलनेस एक्सपर्ट डॉ. गीता ग्रेवाल।

क्या है क्लीन ईटिंग

कह सकते हैं कि डाइट और न्यूट्रिशन इंडस्ट्री में क्लीन ईटिंग एक नया नाम है। क्लीन ईटिंग का सीधा मतलब है नेचुरल चीज़ों को खाना और प्रोसेस्ड फूड से दूरी बनाना जिससे आपकी सेहत में सुधार हो सके। क्लीन ईटिंग कोई डाइट नहीं बल्कि खाने का तरीका है। इसके तहत फल, सब्जियां, साबुत अनाज और हेल्दी फैट आदि को महत्व दिया जाता है। हेल्दी फैट्स में नट्स, एवॉकाडो, सीड्स आते हैं। इसमें ज्यादातर असंतृप्त वसा होती है, जो शरीर में सूजन को कम करने में मदद करती है और बैड कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करती है। जबकि चीनी, नमक की सीमित मात्रा के साथ-साथ प्रोसेस्ड फूड से परहेज किया जाता है।

क्लीन कॉन्सेप्ट समझें

क्लीन डाइट का मतलब, यहां सिर्फ उसे साफ कर अच्छी तरह बनाकर ही खाना नहीं है। इसका अर्थ यहां ताजे फल और सब्जियां खाने से है। बासी खाने से बचें। फ्रिज के भरोसे कम रहें। कम तेल में बना खाना खाएं, ये सभी क्लीन ईटिंग यानि साफ-सुथरे खाने में आता है। इसके साथ ही यह आपको कई स्वास्थ्य लाभ भी देते हैं, जैसे- वजन कम करना, इससे आपकी सेहत बीमारियों के खतरे से दूर रहती है।