कोरोना संक्रमण के कारण पिछले 20 दिनों से मध्य प्रदेश से बाहर के लोगों के लिए बंद चल रहे उज्जैन स्थित महाकाल मंदिर के द्वार सोमवार से खुल जाएंगे। रविवार को डिस्ट्रिक्ट क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक में ये फैसला लिया गया। मंदिर प्रबंधन ने कोरोना वायरस के प्रसार को देखते हुए मध्य प्रदेश के बाहर के नागरिकों के लिए मंदिर में प्रवेश 20 जुलाई से प्रतिबंधित कर दिया था।

उज्जैन महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति के प्रशासक सुजान सिंह रावत ने बताया कि अग्रिम बुकिंग के आधार पर ही दर्शन व्यवस्था लागू रहेगी और यह ऑनलाइन बुकिंग से ही होंगे ताकि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जा सकेगा।
रावत ने आगे बताया कि बैठक में निर्णय लिया गया है कि महाकालेश्वर मंदिर के आसपास के विश्राम स्थल एवं होटलों में प्रवेश द्वार पर ही मालिक के नाम एवं उनके मोबाइल नंबरों को चिपकाया जाए। इसी तरह कालभैरव मंदिर के बाहर प्रसाद के रूप में मदिरा की अवैध बिक्री पर रोक लगाने का निर्णय भी लिया गया।
आज भादो मास में पहली सवारी निकलेगी
भगवान महाकाल की पहली सवारी सोमवार को निकलेगी। श्रावण-भादो मास के क्रम में यह भगवान महाकाल की छठी सवारी है। इसके बाद 17 अगस्त को शाही सवारी निकाली जाएगी।