केंद्रीय गृह मंत्री व भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने शुक्रवार को असम में चुनावी जनसभा में श्रीमंत शंकरदेव व मां कामाख्या को याद किया। उन्होंने असमिया संस्कृति की रक्षा करने का उल्लेख करते हुए कहा कि असम की रक्षा कांग्रेस पार्टी बदरुद्दीन अजमल के साथ हाथ मिलकर कभी नहीं कर सकती। उन्होंने आहोम सेनानी लाचित बरफूकन को याद करते हुए असम की रक्षा का जिक्र किया। कामरूप (ग्रामीण) जिला के कमलपुर में पहली चुनावी जनसभा को संबोधित करने के बाद मोरीगांव जिला के जागीरोड विधानसभा क्षेत्र में दूसरी जनसभा को संबोधित किया। उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि जनसभा में इतनी बड़ी संख्या में उपस्थित जनता ने यह साबित कर दिया है कि असम में भाजपा की सरकार बनने जा रही है। असम में पहले चरण में 27 मार्च को होने वाले मतदान के लिए 47 विधानसभा क्षेत्रों में चुनाव प्रचार समाप्त हो गया है। 01 अप्रैल को दूसरे चरण का मतदान होगा। अमित शाह, असम में कुल चार चुनावी जनसभाओं को संबोधित करने के लिए पहुंचे हैं। जिसमें कमलपुर, जागीरोड, पथारकांदी और सिलचर की जनसभाएं शामिल हैं। जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने मातृ भूमि की रक्षा के लिए बरफूकन के कार्यों की सराहना की। उन्होंने कहा, राहुल गांधी कहते हैं कि बरदरुद्दीन अजमल असम की पहचान हैं। उन्होंने कहा कि असम की पहचान श्रीमंत शंकरदेव, लाचित बरफूकन पहचान हैं। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई बरदरुद्दीन अजमल को कभी स्वीकार नहीं किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस जितना भी जोर लगा लगे हम बदरुद्दीन अजमल को असम की पहचान नहीं बनने देंगे। उन्होंने कहा कि असम में घुसपैठियों को रोकने के लिए हम दृढ़ संकल्पित हैं। असम में अगर बदरुद्दीन अजमल की सरकार बनी तो घुसपैठियों को रोकना मुश्किल होगा। अमित शाह ने कमलपुर में केंद्र सरकार की ओर से बिजली, शौचालय, घर, शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा, नागरिक प्रशासन, एम्स समेत अन्य विकास कार्यों का जिक्र करते हुए असम सरकार के कार्यों का भी उल्लेख किया। उन्होंने केंद्र के घोषणा पत्र और भाजपा के संकल्प पत्र का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि असम सरकार ने कोरोना महामारी से असम को बचाने के लिए काफी बेहतर कार्य किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में ढेर सारे काम किया है। यह विकास का सिलसिला आगे भी जारी रहने वाला है। उन्होंने कहा कि आठवीं कक्षा में पढ़ने वाले छात्राओं को साइकिल देंगे। 12वीं पास करने वाली छात्राओं को स्कूटी देंगे। दो लाख सरकारी व पांच लाख निजी क्षेत्र में नौकरियां देंगे। ब्लाक स्पतालों के बेड को दोगुना करेंगे। इसके अलावा अन्य कई चुनावी घोषणाएं की। प्रधानमंत्री मंत्री किसान सम्मान निधी में दो हजार रुपये और असम सरकार जोड़कर आठ हजार दी जाएगी। चाय जनजातियों के विकास के साथ ही लव जिहाद और लैंड जिहाद के विरूद्ध कड़ा कानून बनाने का आश्वासन दिया। साथ ही कहा कि राज्य के सभी नामघरों के विकास के लिए ढ़ाई-ढ़ाई लाख रुपये दिये जाएंगे। उन्होंने कहा कि असम को आतंकवाद मुक्त बनाया है। असम को अब बेरोजगारी मुक्त बनाएंगे। उन्होंने भाजपा उम्मीदवारों को जिताने का आह्वान किया। अमित शाह ने इलाके के दो भाजपा उम्मीदवारों के समर्थन में चुनावी जनसभा को संबोधित किया। उन्होंने असम को बढ़ा मुक्त, घुसपैठ मुक्त, बेरोजगारी मुक्त बनाने का आश्वासन दिया।